विज्ञापन
Home » Market » Commodity » EnergyPetrol price may reduce 15 rupee per liter in 2019

नए साल में 15 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल, राहत देने की तैयारी में जुटी सरकार

2 अक्टूबर से अब तक 71 फीसदी गिरा कच्चा तेल

1 of

नई दिल्ली. नववर्ष 2019 में आपको सस्ता पेट्रोल मिल सकता है। इसका मुख्य कारण अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट होना है। बाजार के जानकारों के मुताबिक, जिस तरह से कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट चल रही है, उससे 2019 की पहली तिमाही में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 5 रुपए प्रति लीटर तक की कमी हो सकती है। इसके अलावा सरकार पेट्रोल में मेथनॉल मिलाकर बेचने की अनुमति जल्द दे देती है तो इससे भी पेट्रोल की कीमतों में 10 रुपए प्रति लीटर तक की कटौती हो सकती है। यदि यह दोनों कटौतियां एक साथ हो जाएं तो उपभोक्ताओं को नए साल में 15 रुपए प्रति लीटर सस्ता पेट्रोल मिल सकता है।

क्रूड ऑयल की कीमतों में 71 फीसदी गिरावट

अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड ऑयल इस समय निचले स्तर पर चल रहा है। बुधवार को यह 50 डॉलर प्रति बैरल के साथ जुलाई 2017 के स्तर पर पहुंच गया था। 2 अक्टूबर 2018 को क्रूड ऑयल इस साल के सबसे उच्चतम स्तर 85.6 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था। तब से अभी तक इसमें लगातार गिरावट हो रही है। अब यह गिरकर बुधवार को 50 डॉलर प्रति बैरल के आसपास आ गया है। 2 अक्टूबर से 26 दिसंबर तक क्रूड ऑयल की कीमतों में 71 फीसदी की गिरावट आ गई है। 

 

पेट्रोल की कीमतों में 20 फीसदी की गिरावट
2 अक्टूबर 2018 को राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 83.80 पैसे प्रति लीटर मिल रहा था। तब क्रूड ऑयल की कीमतों में कटौती के बाद से पेट्रोल की कीमतों में भी लगातार कटौती हो रही है। इस समय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 69.74 रुपए प्रति लीटर चल रहा है। 2 अक्टूबर के मुकाबले पेट्रोल की कीमतों में 20 फीसदी की कटौती दर्ज की गई है। हालांकि, जिस हिसाब से क्रूड ऑयल की कीमतों में गिरावट हुई है। उस हिसाब से पेट्रोल की कीमतों में कमी नहीं आई है। इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के डायरेक्टर सलील गर्ग का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट और डॉलर के मुकाबले रुपए में तेजी से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट जारी रह सकती है। 

जारी रहेगी राहत


बाजार के जानकारों का कहना है कि अगले तीन महीनों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमतें 60 से 70 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकती हैं। इसके बावजूद स्थानीय स्तर पर पेट्रोल-डीजल की कीमतों में राहत रहेगी। जानकारों के मुताबिक, इस समय खरीदे गए क्रूड ऑयल से भारतीय बाजार में आने वाले तीन महीनों में भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें काबू में रखी जा सकती हैं।

पेट्रोल में मेथनॉल भी देगा राहत


कुछ माह पहले नीति आयोग ने केंद्र सरकार को पेट्रोल में 15 फीसदी मेथनॉल मिलाकर बेचने की सलाह दी थी। अब केंद्र सरकार ने इस पर काम करना शुरू कर दिया है। पुणे में पेट्रोल में मेथनॉल मिलाकर गाड़ियों पर ट्रायल किया जा रहा है। यह ट्रायल नीति आयोग की देखरेख में ही चल रहा है। इसके नतीजे 2 से 3 महीने में आ जाएंगे। यदि नतीजे सकारात्मक आते हैं तो सरकार पेट्रोल में 15 फीसदी मेथनॉल मिलाकर बेचने की अनुमति दे सकती है। ऐसा होता है तो पेट्रोल की कीमतों में 10 रुपए प्रति लीटर तक की कमी आ जाएगी। आपको बता दें कि मेथनॉल बनाने में 20 रुपए प्रति लीटर की लागत आती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन