Home » Market » Commodity » EnergyOil jumps the most since Nov 2016 after OPEC meeting

OPEC मीटिंग के बाद 6% चढ़ा क्रूड, 20 महीने की सबसे बड़ी तेजी, महंगे हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल

OPEC के 10 लाख बैरल प्रति दिन प्रोडक्शन बढ़ाने पर राजी होने के बावजूद क्रूड में बड़ी तेजी दर्ज की गई है।

Oil jumps the most since Nov 2016 after OPEC meeting

नई दिल्ली. क्रूड का प्रोडक्शन करने वाले देशों के संगठन OPEC के 10 लाख बैरल प्रति दिन प्रोडक्शन बढ़ाने पर राजी होने के बावजूद क्रूड की कीमतों में 6 फीसदी तक की बढ़त दर्ज की गई। यह क्रूड में नवंबर, 2016 के बाद यानी 20 महीनों की सबसे बड़ी तेजी है। इससे एक बार फिर भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की आशंकाएं पैदा हो गई हैं। ऐसे में ऑयल मार्केटिंग कंपनियों पर कीमतें बढ़ाने का प्रशर बढ़ सकता है। 

 

 

ओपेक देश रोजाना 10 लाख बैरल प्रोडक्शन बढ़ाने को राजी
गौरतलब है कि शुक्रवार को ओपेक देशों और रूस की मीटिंग में जुलाई से रोजाना 10 लाख बैरल क्रूड प्रोडक्शन बढ़ाने पर सहमति बनी थी। सऊदी एनर्जी मिनिस्टर खालिद अल-फलिह ने वियना में हुई बैठक के बाद पत्रकारों को कहा कि मुझे लगता है कि यह दूसरी छमाही में आने वाली अतिरिक्त मांग को पूरा करने में महत्वपूर्ण योगदान देगा। पेट्रोलियम एक्सपोर्ट करने वाले देशों और सहयोगी देशों के संगठनों के बीच 18 महीने के सप्लाई कटौती समझौते में संशोधन पर बातचीत केंद्रित थी।
हालांकि इस प्रोडक्शन बढ़ाने पर सहमति के बावजूद क्रूड की कीमतों पर इसका असर नहीं पड़ा।

 

 

5 लाख बैरल प्रति दिन बढ़ेगा प्रोडक्शनः ईरान

उधर ईरान के ऑयल मिनिस्टर ने शनिवार को कहा कि नई प्रोडक्शन डील के बाद ओपेक और उसके सहयोगी देश ऑयल प्रोडक्शन में 5 लाख बैरल प्रति दिन का इजाफा करेंगे।

वहीं सऊदी अरब ने कहा कि इससे ग्लोबल सप्लाई में 10 लाख बैरल प्रति दिन (बीपीडी) यानी 1 फीसदी की बढ़ोत्तरी होगी।

इसके उलट इराक ने कहा था कि क्रूड प्रोडक्शन में वास्तविक बढ़ोत्तरी 7.70 लाख बीपीडी की होगी, क्योंकि कई देश प्रोडक्शन में कमी की समस्या से जूझ रहे हैं। इसलिए उन्हें अपना कोटा पूरा करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। 

 

5.71 फीसदी महंगा हुआ क्रूड 
न्यूयॉर्क मर्चेंटाइल एक्सचेंज (नायमेक्स) पर क्रूड की कीमतें 5.71 फीसदी बढ़कर 69.28 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गईं। क्रूड में यह तेजी नवंबर, 2016 के बाद की सबसे बड़ी तेजी थी। 

 

प्रोडक्शन में बढ़ोत्तरी उम्मीद से कम 
एक अमेरिकी ऑयल एक्सपर्ट के मुताबिक, ‘मार्केट को ओपेक मीटिंग से बड़ी मात्रा में ऑयल प्रोडक्शन बढ़ने की उम्मीदें थीं। हालांकि फिलहाल ऐसा नहीं होने जा रहा है। एक वक्त हम 18 लाख बीपीडी प्रोडक्शन बढ़ने की उम्मीदें कर रहे थे, लेकिन अब 6 लाख बीपीडी की बढ़ोत्तरी होने जा रही है।’
ओपेक मीटिंग से मार्केट में भ्रम की स्थिति बन गई है, क्योंकि प्रोड्यूसर्स ने धुंधली सी तस्वीर पेश की है। अब प्रोडक्शन की स्थिति समझना मुश्किल हो गया है। उम्मीदों की तुलना में प्रोडक्शन खासा कम बढ़ने जा रहा है।
फ्रांस के बैंक बीएनपी पारिबा के हेड (ऑयल स्ट्रैटजी) ने रॉयटर्स से बातचीत में कहा, ‘आउटपुट में प्रभावी बढ़ोत्तरी को मार्केट आसानी से एब्सॉर्ब कर लेगा।’

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट