Home » Market » Commodity » EnergyPetrol Price: लगातार 8वें दिन पेट्रोल सस्ता, 11 पैसे घटी कीमत, डीजल के दाम में 8 पैसे की कटौती

Petrol Price: लगातार 8वें दिन पेट्रोल सस्ता, 11 पैसे घटी कीमत, डीजल के दाम में 8 पैसे की कटौती

बुधवार 6 जून 2018 को पेट्रोल की कीमतों में 11 पैसे और डीजल की कीमतों में 8 पैसे की कटौती हुई है।

1 of

नई दिल्ली.  इंटरनेशन मार्केट में आई क्रूड की कीमतों में गिरावट के चलते बुधवार को भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में राहत मिली है। बुधवार 6 जून 2018 को पेट्रोल की कीमतों में 11 पैसे और डीजल की कीमतों में 8 पैसे की कटौती हुई है। लगातार आठवें दिन पेट्रोल और डीजल के दाम घटे हैं। इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर अपडेट प्राइस लिस्‍ट के मुताबिक, दिल्‍ली में अब पेट्रोल की कीमत 77.72 रुपए और डीजल की कीमत 68.80 रुपए प्रति लीटर हो गई है। पिछले 8 दिन में राजधानी दिल्‍ली में पेट्रोल 71 पैसे और डीजल 51 पैसे प्रति लीटर सस्ता हो चुका है। 

6 डॉलर प्रति बैरल गिरे क्रूड के दाम

इंटरनेशनल मार्केट में पिछले 10 दिनों क्रूड में 6 डॉलर प्रति बैरल से ज्यादा तक गिरावट आ चुकी है। मंगलवार को क्रूड 1.6 फीसदी तक गिरकर 73.81 डॉलर प्रति बैरल तक आ गया है। ऐसे में क्रूड की कीमतों में मिल रही राहत का फायदा देश के कंज्यूमर्स को मिल रहा है।

 

देश के 4 महानगरों में पेट्रोल की नई कीमतें

 

शहर

नई कीमत (6 जून का रेट ) 

पुरानी कीमत (5 जून का रेट) 

दिल्ली

77.72

77.83

कोलकाता

80.37

80.47

मुंबई

85.54

85.65

चेन्नई

80.68

80.80 

 

 

देश के 4 महानगरों में  डीजल की नई कीमतें

 

शहर

नई कीमत (5 जून का रेट ) 

पुरानी कीमत (5 जून का रेट) 

दिल्ली

68.80

68.88

कोलकाता

71.35

71.43

मुंबई

73.25

73.33

चेन्नई

72.64

72.72 

 

(कीमत: पेट्रोल-डीजल की रुपए प्रति लीटर में।)

स्रोतः IOCL

 

मार्केट के जानकारों का कहना है कि इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड में गिरावट का भारत में फायदा मिलने लगा है, हालांकि यह अभी तक मामूली रहा है। मार्केट में सप्लाई बढ़ने से क्रूड 74 डॉलर प्रति बैरल के स्तर तक आ गया है जो 10 दिन पहले 80.50 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था। अगर 22 जून को ओपेक देश आगे कटौती न करने का फैसला लेते हैं तो क्रूड में गिरावट बढ़ सकती है। यह 60 डॉलर प्रति बैरल तक आ सकता है। ओपेक देश और रूस ऐसा संकेत दे भी चुके हैं। इसका फायदा  भारतीय ग्राहकों को मिल सकता है, लेकिन इसके लिए राज्य सरकारों को ही राहत के लिए उपाय करने होंगे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट