विज्ञापन
Home » Market » Commodity » EnergyGST on petroleum products to be decided as per GSTC suggestion: Minister

पेट्रोलियम मंत्री का बड़ा बयान- पेट्रोल-डीजल पहले से ही GST के दायरे में, बस दरें तय करना बाकी

राज्यसभा में दिया लिखित जवाब, अंतिम फैसला जीएसटी काउंसिल के पास

1 of

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल को लेकर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बड़ा बयान दिया है। पेट्रोलियम मंत्री ने कहा है कि पेट्रोल-डीजल पहले से ही GST के दायरे में हैं, बस इसकी दरें तय करना बाकी है और यह काम जीएसटी काउंसिल को करना है। बुधवार को संसद में पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि केंद्रीय गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (CGST) के सेक्शन 9(2)  के अनुसार सभी पेट्रोल-डीजल समेत ट्रोलियम पदार्थ जीएसटी के दायरे में हैं। लेकिन इसको लागू करने के लिए जीएसटी काउंसिल की सिफारिश जरूरी है। 

 

अंतरराष्ट्रीय स्तर के अनुसार तय होती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें
राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में लिखित उत्तर देते हुए पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें तय करने के लिए अंतरराष्ट्रीय कीमतों को बेंचमार्क माना गया है। यानी देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें अंतरराष्ट्रीय स्तर की कीमतों के अनुसार होती हैं। साथ ही अंतरराष्ट्रीय कीमतों में होने वाले बदलाव के अनुसार ही इनमें बदलाव किया जाता है। 

 

काउंसिल तय करेगी जीएसटी लागू होने की तारीख
पेट्रोलियम मंत्री ने बताया कि संविधान का आर्टिकल 279A (5) जीएसटी काउंसिल को किसी भी वस्तु को इसके दायरे में लाने की ताकत देता है। इस आर्टिकल के अनुसार, केवल काउंसिल ही पेट्रोलियम पदार्थों पर जीएसटी लगाने की सिफारिश कर सकती हैं। इसमें पेट्रोल-डीजल के अलावा हाई स्पीड डीजल, मोटर स्प्रिट, नेचुरल गैस और एविएशन टर्बाइन फ्यूल (ATF) शामिल हैं। CGST के अनुसार, पेट्रोल-डीजल पहले से ही जीएसटी के दायरे में हैं। बस जीएसटी काउंसिल को इस पर दरें लागू करने की सिफारिश करना बाकी है। 

कई कारणों से होता है कीमतों में उतार-चढ़ाव


पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि सामान्य तौर पर हर देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें अलग-अलग होती हैं। इसका कारण पेट्रोल-डीजल की कीमतों में उतार-चढ़ाव होता रहता है। इनकी कीमतों को कई कारक प्रभावित करते हैं जिसमें विभिन्न देशों में प्रचलित कर और वहां की सरकारों की ओर से दी जाने वाली सब्सिडी प्रमुख हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली-मुंबई में पेट्रोल-डीजल की विस्तृत कीमत की जानकारी पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल की वेबसाइट पर मौजूद है।

जीएसटी काउंसिल में शामिल हैं सभी राज्यों के प्रतिनिधि


पेट्रोलियम मंत्री ने राज्यसभा में बताया कि जीएसटी काउंसिल में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रतिनिधि शामिल हैं। इसमें राज्यों के वित्त और कर मंत्री या राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से नामित मंत्री शामिल हैं। पेट्रोलियम पदार्थों पर जीएसटी दर लागू करने का अंतिम फैसला जीएसटी काउंसिल की सिफारिशों पर ही निर्भर करता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन