बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Energyपेट्रोल की कीमतें कम करने का नया फॉर्मूला, सरकार ONGC जैसी कंपनियों पर लगा सकती है विंडफाल टैक्‍स

पेट्रोल की कीमतें कम करने का नया फॉर्मूला, सरकार ONGC जैसी कंपनियों पर लगा सकती है विंडफाल टैक्‍स

सरकार ओएनजीसी जैसी ऑयल प्रोड्यूसर्स कंपनियों पर एक विंडफाल टैक्‍स लगा सकती है।

1 of

नई दिल्‍ली. तेल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी को राहत दिलाने के लिए सरकार लॉन्‍ग टर्म समाधान में जुटी है। सरकार ओएनजीसी जैसी ऑयल प्रोड्यूसर्स कंपनियों पर एक विंडफाल टैक्‍स लगा सकती है। सरकार की यह कवायद पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को नीचे लाने     के स्‍थायी समाधान के तौर पर देखा जा रहा है। सूत्रों के अनुसार, सरकार की तरफ से यह टैक्‍स सेस के रूप में लगाया जा सकता है और तेल की कीमतें 70 डॉलर प्रति बैरल के ऊपर जाने पर यह देना होगा। 

सूत्रों ने बताया कि इस योजना के तहत, तेल प्रोड्यूसर्स, जिन्‍हें घरेलू फील्‍ड से निकाले गए तेल के लिए अंतरराष्‍ट्रीय भाव पर भुगतान होता है,  को 70 बैरल से अधिक कीमतें जाने पर रेवेन्‍यू का एक हिस्‍सा देना पड़ेगा। विंडफाल टैक्‍स एक तरह का विशेष तेल टैक्‍स है। इससे मिलने वाले रेवेन्‍यू का फायदा फ्यूल रिटेलर्स को दिया जाएगा जिससे वह कीमतों में बढ़ोत्‍तरी को अब्‍जॉर्ब कर सके। 

 

देश्‍ा में पहली बार पेट्रोल 85 रुपए के पार, डीलज भी रिकॉर्ड 72.96 के लेवल पर

 

कंज्‍यूमर को तत्‍काल राहत देने के लिए सरकार विंडफाल टैक्‍स के साथ एक्‍साइज ड्यूटी में भी थोड़ी-बहुत कटौती कर सकती है। राज्‍यों से भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें नीचे लाने के लिए सेल्‍स टैक्‍स या वैट में कटौती के लिए कहा जाएगा। 

 

सरकारी और प्राइवेट दोनों कंपनियों पर लगेगा सेस 
सूत्रों का कहना है कि सरकार सभी तेल प्रोड्यूसर्स (सरकारी और प्राइवेट दोनों) पर यह सेस लगाने का विचार कर रही है, जिससे किसी तरह का विवाद न हो। बता दें, इसी तरह का टैक्‍स 2008 में लगाने का विचार किया गया था, जब तेल की कीमतें तेजी से बढ़ी थीं लेकिन केयर्न इंडिया जैसी प्राइवेट कंपनियों के तल्‍ख विरोध के चलते इसे लागू नहीं किया जा सका। 

 

दुनिया के कई देशों में है यह सेस 
विंडफाल टैक्‍स दुनिया के कुछ विकसित देशों में प्रभावी है। यूके में 2011 में तेल की कीमतें 75 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर जाने पर टैक्‍स रेट बढ़ा दिया गया, जो नॉर्थ सी ऑयल और गैस से मिलने वाले प्रॉफिट पर लागू हुआ था। इसी तरह, चीन ने 2006 में घरेलू तेल प्रोड्यूसर्स पर स्‍पेशन अपस्‍ट्रीम प्रॉफिट टैक्‍स लगाया। सूत्रों का कहना है कि मोदी सरकार विंडफाल टैक्‍स को तेल कीमतों में तेजी को काबू में रखने के एक स्‍थायी समाधान के विकल्‍प के रूप में देख रही है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट