विज्ञापन
Home » Market » Commodity » EnergyElections broke the dream of petrol pump dealership

चुनाव के कारण 50 हजार लोगों को नहीं मिल पाएंगे पेट्रोल पंप, असमंजस में तेल कंपनियां

केवल 2 हजार आवेदकों को औपचारिक नियुक्ति पत्र मिला

Elections broke the dream of petrol pump dealership

Elections broke the dream of petrol pump dealership आपने भी अगर कुछ समय पहले तेल कंपनियों की ओर से पेट्रोल पंप डीलरशिप के लिए आवेदन किया है तो आपके लिए यह खबर काफी लाभदायक सिद्ध हो सकती है। दरअसल चुनाव आचार संहिता लगने से 50 हजार पेट्रोल पंप डीलरशिप की नियुक्तियों की प्रक्रिया का काम अधूरा रह गया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कंपनियों ने नियुक्ति प्रक्रिया को होल्ड पर डाल दिया है।

नई दिल्ली। आपने भी अगर कुछ समय पहले तेल कंपनियों की ओर से पेट्रोल पंप डीलरशिप के लिए आवेदन किया है तो आपके लिए यह खबर काफी लाभदायक सिद्ध हो सकती है। दरअसल चुनाव आचार संहिता लगने से 50 हजार पेट्रोल पंप डीलरशिप की नियुक्तियों की प्रक्रिया का काम अधूरा रह गया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कंपनियों ने नियुक्ति प्रक्रिया को होल्ड पर डाल दिया है। इंडियन ऑइल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम ने देशभर में 78,500 लोकेशन पर पेट्रोल पंप डीलर्स नियुक्त करने के लिए आवेदन मंगाया था। इसके लिए तेल कंपनियों ने नवंबर में विज्ञापन दिया था। साथ ही पूरे देशभर से 95 फीसदी लोकेशन के लिए आवेदन भी मांगे थे। इनमें से 39 पर्सेंट जगहों पर सिंगल और 56 पर्सेंट पर मल्टीपल ऐप्लिकेशन मिले हैं। 

केवल 2 हजार आवेदकों को औपचारिक नियुक्ति पत्र मिला


तेल कंपनियों ने अभी तक केवल एक तिहाई लोकेशन पर विजेताओं की घोषणा कर दी है। केवल 2 हजार आवेदकों को लेटर्स ऑफ इंटेंट (LOI) या औपचारिक नियुक्ति पत्र मिला है।  अब कंपनियों ने बाकी पेट्रोल पंपों के लिए चयन प्रक्रिया रोक दी गई है। एक कंपनी एग्जिक्युटिव का कहना है कि पिछली सरकार ने तेल कंपनियों को चुनावी सीजन के दौरान अपॉइंटमेंट बंद करने को कहा था, इसलिए कंपनियां कोई जोखिम नहीं लेना चाहतीं। 

कंपनियां इस बारे में चुनाव आयोग से स्पष्टीकरण मांग रही हैं


एक अन्य एग्जिक्युटिव ने बताया कि कंपनियां इस बारे में चुनाव आयोग से स्पष्टीकरण मांग रही हैं।  तेल कंपनियों ने पेट्रोल पंप डीलर्स की नियुक्ति मामले में पेट्रोलियम मंत्रालय की सलाह भी मांगी है। सूत्रों का कहना है कि मंत्रालय के अधिकारियों ने भी चुनाव आयोग से स्पष्टता लेने का सुझाव दिया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन