बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Agri80 रु किलो तक पहुंची प्याज की कीमतें, सरकार के प्राइस कंट्रोल की कोशिशें नाकाम

80 रु किलो तक पहुंची प्याज की कीमतें, सरकार के प्राइस कंट्रोल की कोशिशें नाकाम

देश की राजधानी दिल्‍ली में खुदरा प्‍याज की कीमत 80 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है।

1 of


नई दिल्‍ली. देश में प्‍याज की कीमतों को कंट्रोल करने के लिए सरकार की कोशिशें नाकाम साबित हो रही हैं। प्‍याज की कीमतों में तेजी बनी हुई है और देश की राजधानी दिल्‍ली में खुदरा प्‍याज की कीमत 80 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है। ट्रेड डाटा के मुताबिक प्याज के दाम में इसी तरह का उछाल दूसरे शहरों में देखा गया। बता दें कि प्राइस कंट्रोल के लिए सरकार ने हाल ही में न्‍यूनतम एक्‍सपोर्ट प्राइस (MEP) व्‍यवस्‍था लागू की थी। 

 

 

न्‍यूनतम एक्‍सपोर्ट प्राइस के तहत प्याज के एक्सपोर्ट के लिए 850 डॉलर प्रति टन की दर तय की गई है। इस दाम से कम पर प्‍याज का निर्यात नहीं हो सकेगा। सरकार का कहना था कि इस व्यवस्था से देश में प्‍याज की उपलब्‍ध बनी रहेगी। इससे कीमतें नहीं बए़ने पाएंगी। यह व्‍यवस्‍था 31 दिसंबर, 2017 तक लागू रहेगी। इससे पहले प्‍याज पर MEP की व्‍यवस्‍था 31 दिसंबर 2015 को खत्‍म कर दी गई थी। 

 

 

होलसेल में प्याज की कीमतें 50-60 रुपए किलो

एशिया के सबसे बड़े सब्‍जी मार्केट आजादपुर मंडी में प्याज की कीमतें 50 से 60 रुपए किलो पर बोली जा रही है जबकि खुदरा में इसी प्याज के दाम आज 80 रुपए प्रति किलोग्राम है।

महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्य प्रदेश जैसे प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों से कम आवक के कारण प्याज की थोक और खुदरा कीमतें उच्च स्तर पर हैं।

 

 

लासगांव में 33 रुपए प्रति किलोग्राम भाव 

NHRDF के डाटा के मुताबित प्‍याज के लिए एशिया के सबसे बड़े मार्केट महाराष्‍ट्र के लासगांव मंडी में आवक में 47 फीसदी की कमी आई और मंगलवार को प्याज की आवक 12 हजार क्विंटल रह गई। जबकि पिछले साल इसी दिन  22,933 क्‍विंटल की सप्‍लाई हुई थी। आज लासगांव में प्‍याज की कीमत 33 रुपए प्रति किलोग्राम है। जबकि पिछले साल इसी दिन 7.50 रुपए प्रति किलोग्राम पर भाव थे। 

 

 

12 हजार टन प्‍याज खरीदने का आदेश 


इस दौरान, सरकार ने  सरकारी उपक्रम MMTC को 2,000 टन प्याज आयात करने के अलावा नेफेड और एसएफएसी को आपूर्ति बढ़ाने के लिए स्थानीय स्तर पर 12 हजार टन प्याज खरीदने का निर्देश दिया है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट