बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Agriक्‍या है कमोडिटी ट्रेडिंग, इसमें कैसे करते हैं कारोबार

क्‍या है कमोडिटी ट्रेडिंग, इसमें कैसे करते हैं कारोबार

कमोडिटी मार्केट में सारी ट्रेडिंग भविष्य के लिए की जाती है।

1 of

नई दिल्ली.  किसी कमोडिटी को एक्सचेंज के माध्यम से खरीदने व खरीदने के काम को कमोडिटी ट्रेडिंग कहते हैं। जहां विभिन्न जिंसों का ऑनलाइन कारोबार होता है। इसके माध्‍यम से एग्री प्रोडक्ट्स (जैसे- गेहूं, ऑयल, कपास, सोयाबीन) व नॉन-एग्री प्रोडक्ट्स (बेस मेटल, सोना-चांदी) आदि का कारोबार करते हैं। कमोडिटी ट्रेडिंग सामान्य ट्रेडिंग की तरह नहीं होती है। यहां पर की जाने वाली सारी ट्रेडिंग भविष्य के लिए की जाती है। सौदे का दिन आने पर ट्रेडर सौदे काट सकता है या फिर वह चाहे तो उसकी डिलिवरी भी ले सकता है। 

 

# कैसे शुरू करें कमोडिटी ट्रेडिंग

कमोडिटी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए। आपको ट्रेडिंग एकाउंट उसी ब्रोकर के साथ खोलना होता है, जिसने प्रमुख कमोडिटी एक्सचेंजों जैसे एमसीएक्स, एनसीडीईएक्स आदि की सदस्यता ले रखी हो। इन एक्सचेंजों की वेबसाइट पर इनसे जुड़े ब्रोकरों की सूची आपको मिल जाएगी। भारत में कई कमोडिटी एक्सचेंज हैं, जिनके माध्यम से कमोडिटी का कारोबार होता है। इनमें एमसीएक्स, एनसीडीईएक्स, एनएमसीई प्रमुख हैं।

 

आगे पढ़ें, कैसे खोले ट्रेडिंग अकाउंट
 

 

ऐसे खोले ट्रेडिंग अकाउंट

 

ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए आपके पास पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ और बैंक खाता होना चाहिए। इस खाते के लिए ब्रोकर आपसे कुछ शुल्क लेते हैं। लेकिन यदि आप ब्रोकर से ट्रेडिंग करवाते हैं तो आप उसे फोन करने भी अपनी कॉल बता सकते हैं। यह सब जुटा लेने के बाद आप कमोडिटी ट्रेडिंग के बारे में समझ बढ़ाएं और मॉक ट्रेडिंग करें। इसके बाद आप कमोडिटी में ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं।

 

आगे पढ़ें- ट्रेडिंग शुरू करने से पहले क्या रखें ध्यान

इन बातों का रखें ध्यान

 

कमोडिटी में ट्रेडिंग आरंभ करने से पहले यह जानना अहम है कि यह काफी जोखिम भरा होता है, इसलिए जरूरी है कि आप पूरी तैयारी करने के बाद ही इस क्षेत्र में प्रवेश करें। हालांकि, जोखिम के साथ ही साथ इस क्षेत्र में लाभ की संभावनाएं भी अधिक होती हैं। यदि कारोबारी ने सही निर्णय लिया तो वह काफी तेजी से पैसे बना सकता है। इस क्षेत्र में जोखिम को कम करने के लिए कारोबारी को स्टॉप लॉस निर्णयों को सटीक तरीके से लागू करना चाहिए। ध्यान रखें कि इस क्षेत्र में स्टॉप लॉस न लगाने पर आप अपनी पूरी पूंजी से हाथ धो सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट