बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Agriजिस चीज के लिए भिड़े अमेरिका और चीन, भारत में मिलती है 40 रु किलो

जिस चीज के लिए भिड़े अमेरिका और चीन, भारत में मिलती है 40 रु किलो

ट्रेड को लेकर अमेरिका और चीन के बीच छिड़ी जंग तेज होती जा रही है।

1 of

नई दिल्ली. ट्रेड को लेकर अमेरिका और चीन के बीच छिड़ी जंग तेज होती जा रही है। इस बार चीन ने अमेरिका के एक्शन का 24 घंटे के भीतर जवाब दिया और अमेरिका से आने वाले 106 प्रोडक्ट्स पर अतिरिक्त 25 फीसदी ड्यूटी वसूलने का ऐलान किया। चीन के इस पलटवार के बाद अमेरिका एक अपने प्रोडक्ट को लेकर खासा बौखला गया है। हैरत की बात यह है कि भारत में यह प्रोडक्ट महज 40 रुपए किलो की कीमत पर मिलता है।

 

 

भारत में महज 40 रु किलो मिलता यह प्रोडक्ट
हम यहां सोयाबीन की बात कर रहे हैं, जिसकी कीमत भारत में वायदा बाजार में लगभग 4 हजार रुपए प्रति क्विंटल यानी 40 रुपए किलो है। इस पर चीन ने 25 फीसदी अतिरिक्त ड्यूटी वसूलने का ऐलान किया है। इस खबर से अमेरिका के किसानों और सोया फार्मिंग से जुड़े तबके में हड़कंप मच गया। इसका असर अमेरिका में सोयाबीन के रेट पर भी दिखा और इसकी कीमतों में लगभग 5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। 
इस मसले पर यूएस सोयाबीन एक्सपोर्ट काउंसिल के चाइना डायरेक्टर ने कहा कि चीन की यह कार्रवाई दुखद है और इससे ट्रेड इम्बैलेंस की समस्या दूर नहीं होगी।

 

आगे भी पढ़ें 

 

 

24 घंटे के अंदर उठाया कदम
बता दें कि यूएस ने चीन से इंपोर्ट होने वाले उन प्रोडक्ट्स की लिस्ट जारी की है, जिन पर 25 फीसदी की दर से अतिरिक्त टैरिफ लगाने का प्रस्ताव किया गया था। जिसके 24 घंटे के भीतर ही चीन ने अपनी लिस्ट जारी की दी। अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि ने कहा कि प्रोडक्ट्स की यह लिस्ट अलग-अलग एजेंसियों के बीच आर्थिक विश्‍लेषण के बाद तैयार की गई है। इसमें चीन के उन प्रोडक्ट्स को शामिल किया गया है, जिन्हें चीन की औद्योगिक योजना से फायदा मिल रहा है। इनका अमेरिका की इकोनॉमी पर कम से कम असर होगा। 

 

आगे भी पढ़ें 

 

 

 

US ने इन चीनी प्रोडक्ट की लिस्ट जारी की  
अमेरिका ने जिन प्रोडक्ट्स की लिस्ट जारी की है, उनमें एविएशन, टेलिकम्युनिकेशंस, रोबोटिक्स और मशीनरी जैसे प्रोडक्ट शामिल हैं। इनमें 13000 के करीब प्रोडक्ट शामिल हैं। इनकी लिस्ट सार्वजनिक तौर पर जारी कर उस पर लोगों से कमेंट मांगे जाएंगे। जरूरत पर सुनवाई भी होगी। प्रॉसेस पूरा हो जाने के बाद अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि का कार्यालय ऐसे प्रोडक्ट्स की अंतिम लिस्ट जारी कर देगा, जिन पर अतिरिक्त टैरिफ लगाया जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट