बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Agri29 मई को ही केरल में आ सकता है मानसून, इस साल होगी अच्छी बारिश: IMD

29 मई को ही केरल में आ सकता है मानसून, इस साल होगी अच्छी बारिश: IMD

आईएमडी ने शुक्रवार को जानकारी दी है कि इस साल 29 मई को मानसून केरल पहुंच जाएगा।

1 of

नई दिल्‍ली. मानसून इस साल समय से पहले ही केरल तट पर दस्‍तक देगा। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने शुक्रवार को जानकारी दी है कि इस साल 29 मई को मानसून केरल पहुंच जाएगा। आईएमडी के अनुसार इस साल मानसून सीजन यानी जून से सितंबर के बीच देश में सामान्य से 97 फीसदी बारिश की उम्मीद है। इसके पहले मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली प्राइवेट एजेंसी स्काईमेट ने अनुमान जताया था कि साउथवेस्‍ट मानसून 28 मई को केरल पहुंच जाएगा। बता दें कि मानसून पर देशभर की निगाहें हैं। अगर बेहतर मानसून रहता है तो इकोनॉमी को इसका फायदा होगा। 

 

 

15 दिनों में आधे देश में दस्तक देगा मानसून
न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, मौसम विभाग ने बताया कि इस साल देश में मानसून की स्थिति सामान्य है। शुरुआती 15 दिनों में देश के आधे हिस्से पर और जुलाई के मध्य तक पूरे देश को मानसून कवर कर लेगा। देश के मध्य हिस्सों में जून के तीसरे सप्ताह तक मानसून पहुंच जाएगा। वहीं, जुलाई के पहले सप्ताह तक पश्चिमी हिस्सों को भी कवर कर लेने का अनुमान है।

 

मौसम विभाग ने कहा कि साउथ वेस्ट मानसून के साथ ही बारिश के सीजन की शुरुआत होगी। जैसे-जैसे यह उत्‍तरी क्षेत्र की ओर बढ़ेगा तो यहां के लोगों को भी गर्मी से राहत मिलेगी। आईएमडी के अनुसार मानूसन के 29 मई को केरल पहुंचने की संभावना है। इसमें 4‍ दिन का आगे-पीछे बदलाव भी हो सकता है। 

 

 

पिछले 5 साल का अनुमान और वास्तविक स्थिति

साल IMD का अनुमान स्काईमेट का अनुमान वास्तविक बारिश
2013 98% 103% 106%
2014 96% 94% 88%
2015 93% 102% 86%
2016 106% 105% 97%
2017 98% 95% 95%

 

4 महीने अहम
मानसून जून से सितंबर के बीच चार महीने का माना जाता है। देश में जब 96% से 104% के बीच बारिश होती है तो उसे सामान्य मानसून कहा जाता है। ये चार महीने इसलिए अहम माने जाते हैं, क्योंकि इस दौरान बरसने वाला पानी देश की सालभर की बारिश में 70% योगदान देता है। 

 

मानसून का इकोनॉमी पर सीधा असर 
इससे पहले 2017 और 2016 में भी मानसून सामान्य रहा था, लेकिन 2014 और 2015 में मानसून कमजोर रहने से देश को सूखे की मार झेलनी पड़ी थी। बता दें कि सामान्य बारिश से एग्रीकल्चर सेक्टर को फायदा होता है, जिसका सीधा असर देश की इकोनॉमी पर होता है। देश की जीडीपी में खेती का योगदान 16 फीसदी है, वहीं खेती से देश के 50 फीसदी लोगों को रोजगार मिलता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट