Home » Market » Commodity » AgriMonsoon rains are likely to be unaffected by El Nino

किसानों के लिए राहत की खबर, अल नीनो से प्रभावित नहीं होगा मानूसन

भारत में खेती और उससे जुड़े लोगों के लिए राहत की खबर है। इस बार मानसून पर अल नीनो का कोई भी प्रभाव नहीं होगा।

1 of

नई दिल्ली। भारत में खेती और उससे जुड़े लोगों के लिए राहत की खबर है। इस बार मानसून पर अल नीनो का कोई भी प्रभाव नहीं होगा। मौसम विभाग के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि अल नीनो मानसून के 4 महीने खत्म होने का बाद सक्रिय होगा। ऐसे में मानसून खराब होने का डर नहीं है। 

इससे पहले ला नीना कमजोर रहने के चलते अनुमान जताया जा रहा था कि अल नीनो पहले ही सक्रिय हो सकता है। निजी अमेरिकी संस्था रेडिएंट सॉल्यूशंस ने अनुमान जताया था कि इस बार अल नीनो की वजह से मानसून कमजोर रह सकता है, जिससे भारत में सोयाबीन, मूंगफली और कपास की फसलें प्रभावित हो सकती हैं। पिछले साल भी मानसून की बारिश औसत के मुताबिक रही थी। लंबी अवधि के औसत की तुलना में 95% बारिश हुई थी, जबकि मौसम विभाग का अनुमान 98% का था।

 

4 माह में 70 फीसदी बारिश
मानसून सीजन के 4 महीनों में साल भर होने वाली बारिश की 70 फीसदी बारिश होती है। इन महीनों में होने वाली बारिश खेती का प्रमुख आधार है। बता दें कि भारत की 2 लाख करोड़ डॉलर की इकोनॉमी में खेती का योगदान 15 फीसदी है। वहीं, भारत में कुल 130 करोड़ लोगों में से खेती पर कुल दो-तिहाई आबादी निर्भर है। 
 

मोदी सरकार के लिए भी अहम
आम चुनावों के पहले जब मोदी सरकार ने बजट में रूरल एरिया और एग्रीकल्चर पर खासतौर फोकस किया है, ऐसे में मानसून सीजन पर सरकार की भी नजर है। अगर मानसून बेहतर रहता है तो यश्रल एरिया में सरकार अपनी योजनाओं को सही से लागू कराने में भी सफल होगी। वहीं बेहतर मानसून से रूरल इकोनॉमी को बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। वहीं, खेती प्रभावित होती है तो इसका असर किसानों की आय पर पड़ेगा, जिससे सरकार पर भी दबाव बढ़ेगा। 
 

प्रेडिक्शन जल्दबाजी
मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ एंड साइंस के सीनियर साइंटिस्ट माधवन नैयर राजीवन का कहना है कि वैसे तो अभी मानसून के बारे में कुछ प्रेडिक्ट करना जल्दबाजी होगी। लेकिन इस बात के संकेत हैं कि ला नीना सीजन के अंंत में न्यूट्रल फेज में जा रही है। 

 

आगे पढ़ें, क्या है अल नीनो.......

 

 

 

क्‍या होता है अल नीनो?
अल-नीनो प्रशांत महासागर के भूमध्यीय क्षेत्र की उस समुद्री घटना का नाम है जो दक्षिण अमेरिका के पश्चिमी तट पर स्थित इक्वाडोर और पेरू देश के तटीय समुद्री जल में कुछ सालों के अंतराल पर घटित होती है। इसके तहत समुद्र की सतह के तापमान में असामान्‍य तौर पर इजाफा हो जाता है। इसका पूरे विश्व के मौसम पर प्रभाव पड़ता है। 

 

ला-नीना से ठीक उलटा होता है अल नीनो
नीना अल-नीनो से ठीक उलटा प्रभाव रखती है। पश्चिमी प्रशांत महासागर में अल-नीनो द्वारा पैदा किए गए सूखे की स्थिति को ला-नीना बदल देती है। यह आर्द्र मौसम को जन्म देती है। ला-नीना के कारण पश्चिमी प्रशांत महासागर के उष्ण कटिबंधीय भाग में तापमान में वृद्धि होने से वाष्पीकरण ज्यादा होने पर इंडोनेशिया और समीपवर्ती भागों में सामान्य से अधिक बारिश होती है। ला-नीनो कई बार दुनियाभर में भयंकर बाढ़ का कारण भी बन जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss