Advertisement
Home » Market » Commodity » AgriIndia's soymeal sales to Iran surge to offset rupees-for-oil imbalance

अमेरिका-ईरान की लड़ाई में मोदी का बड़ा दांव, ऐसे कराई भारत को अरबों की कमाई

तेल के बदले ईरान भेज रहा 40 रु किलो का यह आइटम 

1 of


मुंबई. एक तरफ अमेरिका और ईरान आपस में बड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं। वहीं भारत सरकार के लिए यह लड़ाई बड़ी कमाई या सेविंग का सौदा साबित हो रही है। भारत जहां ईरान से सब्सिडी पर कच्चा तेल खरीद रहा है, वहीं उसकी कीमत के बदले बड़े स्तर पर सोयामील का निर्यात कर रहा है। स्थिति यह हो गई है कि अगर इसी तरह निर्यात जारी रहता है तो भारत से ईरान के लिए सोयामील का निर्यात 20 गुना बढ़ सकता है। निश्चित तौर पर इससे सरकार के साथ ही भारत के किसानों को भी फायदा होगा।

 

सोयामील के सहारे कमाई करेगा भारत

गौरतलब है कि बीते साल नवंबर में ईरान पर लागू अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते कई देशों ने उससे कच्चे तेल का आयात करना बंद कर दिया है या काफी कम कर दिया है। हालांकि भारत ने ईरान से कच्चे तेल का आयात जारी रखा है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बदले हालात में भारत से ईरान के लिए सोयामील यानी सोयाबीन का निर्यात खासा बढ़ सकता है। इसे ईरान के लिए भी अपने जानवरों की खुराक पूरी करना आसान हो गया है।

 

यह भी पढ़ें- भारत तक पहुंची अरब देशों की जंग, कतर ने पैसा लगाने से किया इनकार

 

 

ईरान में पैदा नहीं होता सोयामील

अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद ईरान रुपए के बदले में दुनिया के तीसरे बड़े ऑयल कंज्यूमर भारत को कच्चे तेल का निर्यात करने को राजी हो गया था। तेल के मामले में संपन्न ईरान को इस रुपए को भारतीय गुड्स खरीदने पर खर्च करना होगा। वहीं ईरान प्रोटीन रिच सोयामील का घरेलू स्तर पर उत्पादन नहीं करता है। सोयामील के भारी निर्यात से भारत में सोयाबीन की कीमतों को सपोर्ट मिलेगा और किसानों की शिकायतें सीमित होंगी। किसान लगातार सरकार के कम कीमतों के कारण राहत देने की मांग कर रहे हैं। सरकार को भी मई में आम चुनाव के लिए पब्लिक के बीच जाना होगा।

 

यह भी पढ़ें . 

Interim Budget 2019 : ऐसे बनता है बजट, कड़ी सुरक्षा के बीच चलती है कई माह तक तैयारी 

 

20 गुना हो सकता है निर्यात

इंडस्ट्री बॉडी सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन (एसईए) के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर बी. वी. मेहता ने कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान ईरान के लिए भारत का सोयामील एक्सपोर्ट बढ़कर 4.50 लाख टन तक पहुंच सकता है, जबकि बीते वित्त वर्ष में यह महज 22,910 टन ही रहा था। उन्होंने कहा कि अगर ईरान पर प्रतिबंध जारी रहते हैं तो अगले वित्त वर्ष यानी 2019-20 में यह 5 लाख टन पहुंच सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement