Home » Market » Commodity » AgriArmy give up cows in military farms for Rs 1000 each

1.5 लाख की गाय 1000 रुपए में बेच रही है भारतीय सेना, ऐसी 25 हजार गाय नि‍कालनी हैं

एक फ्रि‍सवाल गाय औसतन 3600 लीटर दूध (लेकटेशन पीरि‍यड में) देती है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। भारतीय सेना करीब 1.5  लाख रुपए की कीमत वाली उम्‍दा नस्‍ल की गाय को महज 1,000 रुपए में बेच रही है। सेना के पास फ्रिसवाल नस्‍ल की 25,000 गाय हैं। दरअसल सेना अपने 39 मिलिट्री फार्म को बंद करने का फैसला पि‍छले साल अगस्‍त में ही ले लि‍या गया था। इस फैसले के बाद मिलिट्री फॉर्म से 25 हजार गायों को हटाने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। इतनी महंगी गायों का कोई खरीददार ही नहीं मि‍ल पाया। उत्तराखंड राज्य ने फार्म हाउस से 1000 रुपए  प्रति गाय की कीमत पर गायें खरीदी है। अब तक 500 गायें नैनीताल जिले भेजी जा चुकी है।

 

एक फ्रि‍सवाल गाय औसतन 3600 लीटर दूध (लेकटेशन पीरि‍यड) देती है, जबकि राष्‍ट्रीय औसत करीब 2000 लीटर है। चुनिंदा फ्रि‍सवाल 7000 लीटर तक दूध देती हैं। सेना के पास कुल 39 सैन्‍य फार्म हैं, जि‍नको बंद कर दिया है। पूरे देश में मि‍लि‍ट्री फार्म सन 1889 में स्‍थापि‍त कि‍ए गए थे, इनका मकसद जवानों को ताजा दूध व डेयरी प्रोडक्‍ट उपलब्‍ध कराना था।  आगे पढ़ें,

नीलाम करने की थी योजना 

फार्म हाउस बंद हो जाने से करीब 57,000 जवान फ्री हो जाएंगे, जो अभी इन फार्म के कामकाज में लगे हुए हैं।  पहले सरकार की योजना इन गायों को नीलाम करने की थी मगर इसमें सफलता नहीं मि‍ल पाई।  

तीन महीने में बंद करने थे फार्म 
पिछले साल अगस्‍त में यह आदेश जारी हुआ था कि तीन महीने के भीतर इन फार्म को बंद कर दि‍या जाए। मगर गायों के चलते ऐसा नहीं हो पाया। फ्रिसवाल गाय नीदरलैंड की टॉप नस्‍ल की गाय और भारतीय साहि‍वाल के क्रॉस से तैयार हुई है। ये दुधारू होती हैं, मगर इन्‍हें काफी देखरेख की जरूरत भी होती है। आगे पढ़ें, 

20 हजार एकड़ जमीन मुक्‍त होगी 
इस बात को लेकर भी चिंता थी कि अगर इन गायों को आम कि‍सानों या प्राइवेट डेयरी मालिकों को बेचा गया तो कहीं ऐसा ना हो कि वो इसे कसाईघर भेज दें, क्‍योंकि इन गायों के रखरखाव में अच्‍छा खास खर्चा आता है। अब यह चिंता भी दूर हो गई है, इस कदम से सेना अब मेरठ, अंबाला, श्रीनगर, झांसी और लखनऊ जैसे शहरों में मौजूद अपने फार्म हाउस को बंद कर करीब 20 हजार एकड़ जमीन मुक्‍त करा पाएगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट