बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Agriमानसून 28 मई को केरल तट से टकराएगा, 4 दिन पहले देगा दस्‍तक: स्‍काईमेट

मानसून 28 मई को केरल तट से टकराएगा, 4 दिन पहले देगा दस्‍तक: स्‍काईमेट

साउथवेस्‍ट मानसून इस साल समय से चार दिन पहले केरल तट पर दस्‍तक देगा।

1 of

नई दिल्‍ली. मानसून इस साल समय से चार दिन पहले केरल तट पर दस्‍तक देगा। मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली प्राइवेट एजेंसी स्काईमेट ने अनुमान जताया है कि साउथवेस्‍ट मानसून 28 मई को केरल पहुंच जाएगा। इससे पहले, मानसून के 20 मई को अंडमान निकोबार,  24 मई को श्रीलंका और फिर आगे पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी की तरफ बढ़ने का अनुमान है। 

 

स्काईमेट (मेट्रोलॉजी और क्‍लाइमेट चेंज) के वाइस प्रेसिडेंट महेश पालावत ने कहा कि मानसून 28 मई को केरल पहुंच सकता है। आमतौर पर मानसून 1 जून को केरल तट पर दस्‍तक देता है। इस साल स्‍काईमेट और मौसम विभाग दोनों ने सामान्‍य मानूसन का पूर्वानुमान जताया है। 

 

स्‍माईमेट और मौसम विभाग का क्‍या है पूर्वानुमान? 
मानसून को लेकर इस साल भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) और स्‍काईमेट की एकराय है। दोनों ने मानसून सामान्‍य रहने का अनुमान जताया है। स्काईमेट ने 4 अप्रैल को कहा था कि 2018 में मानसून 100 फीसदी सामान्य रहने की संभावना है। वहीं, आईएमडी के मुताबिक, जून से सितंबर की अवधि में मानसून के सामान्य रहने के आसार हैं। अप्रैल में आईएमडी ने अपने पूर्वानुमान में कहा था कि मानसून का लंबी अवधि (एलपीए) का औसत 97 फीसदी रहेगा जो कि इस मौसम के लिए सामान्य है।  

 

पिछले 5 साल का अनुमान और वास्तविक स्थिति

साल IMD का अनुमान स्काईमेट का अनुमान वास्तविक बारिश
2013 98% 103% 106%
2014 96% 94% 88%
2015 93% 102% 86%
2016 106% 105% 97%
2017 98% 95% 95%

 

मानसून का इकोनॉमी पर सीधा असर 
इससे पहले 2017 और 2016 में भी मानसून सामान्य रहा था, लेकिन 2014 और 2015 में मानसून कमजोर रहने से देश को सूखे की मार झेलनी पड़ी थी। बता दें कि सामान्य बारिश से एग्रीकल्चर सेक्टर को फायदा होता है, जिसका सीधा असर देश की इकोनॉमी पर होता है। देश की जीडीपी में खेती का योगदान 16 फीसदी है, वहीं खेती से देश के 50 फीसदी लोगों को रोजगार मिलता है।

 

 

आगे पढ़ें... अपने राज्‍य में जानिए बारिश का अनुमान

 

किस शहर में कैसी बारिश? 

 

नॉर्थ इंडिया: किन शहरों में कैसी बारिश

 

भारी बारिश: नॉर्थ इंडिया में वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, शिमला, मनाली, देहरादून, श्रीनगर सहित पूर्वी यूपी, उत्तराखंड, हिमाचल और जम्मू एंड कश्‍मीर के इलाकों में सामान्य से ज्यादा बारिश की उम्मीद है।
 

सामान्य बारिश: नॉर्थ इंडिया में दिल्ली, अमृतसर, चंडीगढ़, आगरा, जयपुर और जोधपुर के इलाकों में सामान्य बारिश की उम्मीद है। 

 

सेंट्रल इंडिया: किन शहरों में कैसी बारिश
 

भारी बारिश: सेंट्रल इंडिया के मुंबई, पुणे, नागपुर, नासिक, इंदौर, जबलपुर, रायपुर और आस-पास के इलाकों में भारी बारिश की उम्मीद है।


सामान्य बारिश: वहीं सेंट्रल इंडिया के अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट और सूरत जैसे शहरों में सामान्य बारिश की उम्मीद है। 

 

साउथ इंडिया: किन शहरों में कैसी बारिश
शुरू के महीनों में साउथ इंडिया के चेन्नई, बंगलुरू, तिरूवनन्तपुरम, कोन्नूर, कोझिकोड, मंगलुरू, हैदराबाद, कर्नाटक के कोस्टल इलाकों, विजयवाड़ा, विशाखापत्तनम में इस बार मानसून सामान्य या सामान्य से कुछ कम रह सकता है।

 

आगे पढ़ें... किस महीने होगी कितनी बारिश? 

 

 

किस महीने कितनी होगी बारिश?


जून 2018

जून में लॉन्ग पीरियड एवरेज  (LPA) 111 फीसदी रह सकता हे। इस दौरान 164 एमएम बारिश हो सकती है।
जून में 60 फीसदी चांस है कि सामान्य से ज्यादा बारिश होगी, 30 फीसदी संभावना सामान्य बारिश होने की है, वहीं 10 फीसदी ही संभावना है कि सामान्य के कम बारिश हो। 

 

जुलाई 2018

जुलाई में लॉन्ग पीरियड एवरेज  (LPA) 97 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 289 एमएम बारिश होने की उम्मीद है। 
जून में 15 फीसदी चांस है कि सामान्य से ज्यादा बारिश होगी, 55 फीसदी संभावना सामान्य बारिश होने की है, वहीं 30 फीसदी ही संभावना है कि सामान्य के कम बारिश हो। 

 

अगस्त 2018

अगस्त में लॉन्ग पीरियड एवरेज  (LPA) 96 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 261 एमएम बारिश होने की उम्मीद है। 
अगस्त में 10 फीसदी चांस है कि सामान्य से ज्यादा बारिश होगी, 55 फीसदी संभावना सामान्य बारिश होने की है, वहीं 35 फीसदी ही संभावना है कि सामान्य के कम बारिश हो। 

 

सितंबर 2018

सितंबर में लॉन्ग पीरियड एवरेज  (LPA) 101 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 173 एमएम बारिश होने की उम्मीद है। 
सितंबर में 20 फीसदी चांस है कि सामान्य से ज्यादा बारिश होगी, 60 फीसदी संभावना सामान्य बारिश होने की है, वहीं 20 फीसदी ही संभावना है कि सामान्य के कम बारिश हो। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट