Home » Insurance » Travel Insurancehealthcare cost is very high in america

अमेरिका में बहुत महंगा है इलाज, ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान करेगा मदद

अमेरिका में इलाज करना बहुत महंगा है। ऐसे में अगर आप अमेरिका जाने की प्‍लानिग कर रहे हैं तो इसकी तैयारी बहुत सोच समझ कर क

1 of

नई दिल्‍ली। अमेरिका में इलाज करना बहुत महंगा है। ऐसे में अगर आप अमेरिका जाने की प्‍लानिग कर रहे हैं तो इसकी तैयारी बहुत सोच समझ कर करें। अगर अमेरिका में आपकी तबियत खराब हो जाती है या मेडिकल इमरजेंसी का सामना करना पड़ जाता है तो आपको इलाज का खर्च अपनी जेब से देना होगा। जिसका बिल लाखों रुपए में हो सकता है। ऐसे में ट्रवैल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान आपकी मदद कर सकता है। ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान में विदेश में आने वाला मेडिकल खर्च भी कवर होता है और अगर आपको इलाज करने की जरूरत पड़ती है तो इसका पैसा इन्‍श्‍योरेंस कंपनी देगी। 

 

अमेरिका जाने से पहले खरीदें ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान 

 

निजी क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनी आईसीआईसीआई लोंबार्ड जनरल इन्‍श्‍योरेंस के चीफ, अडरराइटिंग एंड क्‍लेम्‍स, संजय दत्‍ता ने moneybhaskar.com को बताया कि अमेरिका में इलाज बहुत महंगा है। ऐसे में अगर कोई व्‍यक्ति अमेरिका जा रहा है। भले ही वह अमेरिका एक हफ्ते के लिए जा रहा है तो उसको ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान जरूर लेना चाहिए। इससे अगर उसे मेडिकल इमरजेंसी की सामना करना पड़ता है तो उसे खुद महंगे इलाज का खर्च नहीं उठाना पड़ेगा। 

 

अमेरिका जाने वालों में बढ़ रही है ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेसं की मांग 

 

संजय दत्‍ता के मुताबिक महंगे इलाज की वजह से अमेरिका जाने वालों में ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस की मांग बढ़ रही है। जागरुकता बढ़ने के साथ ही अब ज्‍यादा से ज्‍यादा लोग विदेश जाने से पहले ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीद रहे हैं। हालांकि एशिया और अफ्रीका के देशों में ट्रैवेले करने वाले भारतीय ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान कम खरीदते हैं। इसका कारण यह है कि इन देशों में इलाज उतना महंगा नहीं है। 


10 से 15 फीसदी की दर से बढ़ रहा ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस का बिजनेस 
 
संजय दत्‍ता का कहना है कि जागरुकता बढ़ने के साथ ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस की मांग बढ़ रही है। भारत में ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस का सालाना कारोबार 10 से 15 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। भारत में लोअर मिडिल क्‍लास और मिडिल क्‍लास की आबादी तेजी से बढ़ रही है। इस क्‍लास के लोग अब विदेश जाकर छुट्टियां मनाने की प्‍लानिंग पहले से ज्‍यादा कर रहे हैं। इसके अलावा अब बैंक और दूसरे संस्‍थान बाहर घूमने के लिए आसानी से लोन भी मुहैया करा रहे हैं जिसे ईएमआई के जरिए चुकाया जा सकता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=