Home » Insurance » Travel Insurancetravel insurance is must for europe

विदेश में छुट्टियां मनाने की कर रहे हैं प्‍लानिंग तो ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस को न करें इग्‍नोर

अगर आप देश में या विदेश में किसी डेस्टिनेशन पर जाकर छुट्टियां मनाने की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो आप ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस

1 of

नई दिल्‍ली। गर्मी की छुट्टियां होने वाली हैं। ऐसे में अगर आप देश में या विदेश में किसी डेस्टिनेशन पर जाकर छुट्टियां मनाने की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो आप ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस को इग्‍नोर न करें। ट्रैवल इन्‍श्‍योरेंस कवर आपको टेंशन मुक्‍त होकर छुट्टियां मनाने का मौका देता है। खास कर अगर आप परिवार के साथ बाहर जा रहें हैं तो आपके लिए ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस ओर जरूरी हो जाता है। 

 

यूरोप में जाने के लिए जरूरी है ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस कवर 

 

आईसीआईसीआई लोंबार्ड जनरल इन्‍श्‍योरेंस कंपनी चीएफ अंडरराइटिंग एंड क्‍लेम्‍स, संजय दत्‍ता ने moneybhaskar.com को बताया कि यूरोप के देशों में आप जा रहे हैं तो आपके लिए ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस लेना जरूरी है। वहीं अमेरिका में मेडिकल पर खर्च बहुत अधिक है। इसकी वजह से अमेरिका जाने वाले ज्‍यादातर लोग ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान लेते हैं। वहीं एशिया के दशों में जाने वाले लोग अपेक्षाकृत कम ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस कवर लेते हैं। 

 

भारत में छुट्टियां मनाने जाने वाले लोग कम लेते हैं ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस 

 

संजय दत्‍ता का कहना है कि आम तौर पर भारत में ही छुट्टियां मनाने जाने वाले लोग ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस कवर बहुत कम लेते हैं। टूर ऑपरेटर के साथ जाने वाले कुछ लोग ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस लेते हैं। देश में ही कहीं जाने पर मेडिकल खर्च की चिंता लोगों की ज्‍यादा नहीं होती है। इसके अलावा सामान खोने या फ्लाइट कैंसिल होने को लेकर भी लोग ज्‍यादा टेंशन नहीं लेते हैं। 

 

10 से 15 फीसदी की दर से बढ़ रहा ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस का बिजनेस 

 

संजय दत्‍ता का कहना है कि जागरुकता बढ़ने के साथ ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस की मांग बढ़ रही है। भारत में ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस का सालाना कारोबार 10 से 15 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। भारत में लोअर मिडिल क्‍लास और मिडिल क्‍लास की आबादी तेजी से बढ़ रही है। इस क्‍लास के लोग अब विदेश जाकर छुट्टियां मनाने की प्‍लानिंग पहले से ज्‍यादा कर रहे हैं। इसके अलावा अब बैंक और दूसरे संस्‍थान बाहर घूमने के लिए आसानी से लोन भी मुहैया करा रहे हैं जिसे ईमआई के जरिए चुकाया जा सकता है। 

 


 

कितने तरह का होता है ट्रैवेल इन्‍श्‍योरेंस 

 

ट्रैवल इंश्योरेंस कई तरह के होते हैं। इनमें डोमेस्टिक एंड इंटरनेशनल ट्रैवल इंश्योरेंस के अलावा कॉर्पोरेट और फैमिली ट्रैवल इंश्योरेंस भी शामिल हैं। यही नहीं, सीनियर सिटीजन और स्‍टूडेंट्स के लिए भी अलग से इंश्‍योरेंस मिलता है।   
 
किस इंश्‍योरेंस में क्‍या 
 
डोमेस्टिक : डोमेस्टिक ट्रैवल इंश्योरेंस अपने कस्टमर को यात्रा के दौरान किसी भी तरह की इमरजेंसी जैसे दुर्घटना, सामान खो जाना या फिर मृत्यु हो जाने पर आर्थिक सहायता प्रदान करता है।
इंटरनेशनल : यह इंटरनेशनल लेवल पर सुविधा प्रदान करता है जैसे विदेश यात्रा के समय आपका पासपोर्ट या अन्य डॉक्यूमेंट खो जाए या फिर आपका प्लेन हाइजेक हो जाए या ट्रेवल के समय किसी अन्य तरह की परेशानी पेश आए या फिर यात्रा के समय दुर्घटना होने पर विदेश में चिकित्सा के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करता है।
 
कॉर्पोरेट : इसके तहत उन कर्मचारियों को कवरेज मिलता है जो डोमेस्टिक या फिर इंटरनेशल ट्रैवल पर जाते है।
 
स्‍टूडेंट: इसके तहत उन छात्रों को फायदा मिलता है जो हायर एजुकेशन के लिए विदेश जाते है।  यह छात्रों को मेडिकल कवरेज,पासपोर्ट खो जाने पर भी मदद करता है।
 
सीनियर सिटीजन : 61 साल से लेकर 70 साल तक के सीनियर सिटीजन को इसका लाभ मिलता है। इसके जरिए मेडिकल ट्रीटमेंट और कैशलेस हॉस्पिटल की सुविधा होती है। वहीं फैमिली इंश्‍योरेंस में पूरे परिवार का बीमा होता है। इसके तहत परिवार को यात्रा के समय किसी भी परेशानी में आर्थिक मदद मिलती है।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=
Don't Miss