Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

Petrol Price: आज फिर महंगे हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल Stock Tips: हफ्ते के आखिरी दिन इन शेयरों में होगी कमाई, उठाएं फायदा ऊंचे स्तरों से गिरावट के बाद मिडकैप में बने मौके, ये शेयर दे सकते हैं 50% तक रिटर्न 13 हजार Cr के टेंडर वापस या रद्द, मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल ट्रम्‍प ने उत्तर कोरियाई तानाशाह के साथ रद की बैठक, अमेरिकी स्‍टॉक मार्केट में गिरावट पेट्रोल-डीजल पर 15% तक ड्यूटी घटाएं राज्य, दे सकते हैं केंद्र से ज्यादा राहतः नीति आयोग Forex Market: रुपए 8 पैसे मजबूत होकर 68.34 प्रति डॉलर पर बंद लॉजिस्टिक सेक्टर में आएंगी 30 लाख नई नौकरियां, GST लागू होने का असर: रिपोर्ट महाराष्ट्र समेत 6 राज्यों में कल से लागू होगा इंट्रा स्टेट ई-वे बिल मोदी सरकार का 5वें साल में होगा असल टेस्‍ट, महंगा क्रूड और रोजगार सबसे बड़ा चैलेंज भारत के किशनगंगा प्रोजेक्‍ट में वर्ल्‍ड बैंक नहीं देगा दखल, खारिज की पाक की अपील अस्थायी तौर पर शटडाउन हुआ ‘NSE NOW’, एक्सजेंच ने बताई टेक्निकल प्रॉब्लम Stock Market: IT स्टॉक्स में उछाल से सेंसेक्स 318 अंक बढ़ा, निफ्टी 10500 के पार बंद सरकारी ऑर्गेनाइजेशंस में प्रोक्‍योरमेंट और सर्विसेज की डिलीवरी भी हैं भ्रष्‍टाचार की वजह: CVC खास स्टॉक: 12% तक टूटा ONGC, विंडफाल टैक्स लगाने की खबर का असर
बिज़नेस न्यूज़ » Insurance » Motor Insuranceव्‍हीकल को एक्‍सीडेंट से बचाएगा टेलीमैटिक्‍स, बीमा कंपनियां दे रही हैं इनोवेटिव सॉल्‍यूशन

व्‍हीकल को एक्‍सीडेंट से बचाएगा टेलीमैटिक्‍स, बीमा कंपनियां दे रही हैं इनोवेटिव सॉल्‍यूशन

नई दिल्‍ली... मानसून दस्‍तक देने की तैयारी में है। इस मौसम में अंधेरे के साथ आंधी और तूफान भी देखने को मिलेगा। ऐसे मौसम में सड़क हादसों की संख्‍या बढ़ने की आशंका बनी रहती है।  बजाज एलियांज जनरल इंश्‍योरेंस कंपनी के चीफ बिजनेस हैड मनोहर भट्ट बताते हैं कि आमतौर पर गीली सड़क और गड्डे होने की वजह से ऐसे मौसम में बड़े हादसे होते हैं। वहीं बारिश की वजह से मोटर पार्ट्स में पानी घुस जाने की वजह से भी व्‍हीकल को नुकसान पहुंचता है। वैसे तो अधिकतर व्‍हीकल्‍स,  इंश्‍योरेंस कवर होते हैं तो नुकसान की भरपाई हो जाती है ।  

 

70% केस 20 हजार रुपए से नीचे 


बजाज आलियांज जनरन इन्‍श्‍योरेंस के चीफ बिजनेस हेड, मोटर मनोहर भट्ट ने moneybhaskar.com को बताया कि मानसून के महीनों के दौरान इंश्‍योरेंस क्‍लेम का ग्राफ बढ़ जाता है। लगभग 70% केस में ऐसा होता है कि 20 हजार रुपए से कम का क्‍लेम होता है। यह कार की लागत की तुलना में कम राशि होता है। लेकिन इस क्‍लेम को हासिल करने में कस्‍टमर्स को कई परेशानियां होती हैं। तमाम टेक्‍नोलॉजी होने के बाद भी काफी समय लग जाता है।  


एसेस्‍मेंट टूल पेश किए गए 

 

मनोहर भट्ट बताते हैं कि ऐसे क्‍लेम के निपटारे की प्रक्रिया को तेज करने के लिए, इंश्‍योरेंस कंपनियों ने अब एसेस्‍मेंट टूल पेश कर रही हैं। यह मोबाइल ऐप द्वारा सुविधा प्रदान की जा रही है। इसके माध्यम से डैमेज इंश्‍योर्ड व्‍हीकल की तस्‍वीर को दुर्घटना की जानकारी के साथ-साथ इंश्‍योरेंस  व्यक्ति की पॉलिसी और बैंक डिटेल के साथ अपलोड किया जा सकता है। 

 

कुछ ही मिनटों में राशि 

 

सारी डिटेल साझा करने के कुछ देर बाद  इंश्‍योरेंस कंपनियां नुकसान की समीक्षा करेगी और कस्‍टमर के साथ मुआवजे के डिटेल को साझा करेगी। यदि कस्‍टमर मुआवजे की राशि से सहमत होता है, तो उसे कुछ ही मिनटों में उसके खाते में जमा किया जाएगा।

 

 

हादसों से बचने के लिए टेलीमैटिक्स तकनीक 
मनोहर भट्ट बताते हैं कि ऐसे हादसों और व्‍हीकल को होने वाले नुकसान से बचने के लिए वैज्ञानिकों ने व्हीकल टेलीमैटिक्स तकनीक इजात की है।  इस खास तकनीक से सड़क दुर्घटनाओं में काफी हद तक लगाम लग सकेगी। 

 

व्हीकल टेलीमैटिक्स तकनीक के बारे में 

 

इसमें वाहन की वास्तविक स्थिति की निगरानी रखी जा सकती है। जबकि जी.पी.एस के माध्यम से वाहन की लोकेशन पता चल सकेगा। इसके अलावा स्पीड कन्ट्रोल के साथ गाड़ी में आ रही गड़बड़ियों पर निगरानी रखी जा सकती है। आगे पढ़ें - व्हीकल टेलीमैटिक्स के फायदे
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=
NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.