Home » Insurance » Motor Insurancebefore monsoon Must check these 3 Fact by the insurance company car will not damage

मानसून में गाड़ी को सि‍क्‍योर करने के लि‍ए जरूरी हैं ये एड ऑन कवर

मानसून आने को है और यही वह समय है जब जलभराव की समस्‍या के चलते पानी से भरे गड्ढों में गाडि़यां फंसती हैं।

1 of
नई दि‍ल्‍ली, मानसून आने को है और बारि‍श के मौसम में अक्‍सर लोग घूमने नि‍कलते हैं। लेकि‍न यही वह समय है जब जलभराव की समस्‍या के चलते पानी से भरे गड्ढों में गाड़ि‍यां फंसती हैं। इसके अलावा स्‍लि‍परी रोड और वि‍जि‍बि‍लि‍टी कम होने के चलते हादसों का खतरा भी बढ़ जाता है। ऐसे में इसका सबसे ज्‍यादा नुकसान कार के मालिक को उठाना पड़ता है, क्योंकि बारि‍श के मौसम में गाड़ी कभी भी हादसे का शिकार हो सकती है। ऐसे में जाहिर है, नुकसान होने पर आपको बीमा कंपनियों के दरवाजे खटखटाने होंगे और इस मौसम में यह कुछ ज्यादा ही होता है। 

 
इंजन के लि‍ए लें एड ऑन कवर 
 
जलभराव के दौरान अगर आप इंजन को शुरू करने का प्रयास करेंगे तो यह इंजन को और भी ज्‍यादा नुकसान पहुंचाएगा। इसके चलते आपका क्‍लेम अस्वीकार कि‍या जा सकता है। ऐसे में बारि‍श का मौसम आने से पहले ही आपको इंजन-प्रोटेक्टर एड-ऑन बीमा कवरेज ले लेना चाहि‍ए। इंजन को सुरक्षित रखने के अलावा, यह एड-ऑन कवर, आपकी गाड़ी के गियरबॉक्स और तेल रिसाव जैसी दि‍क्‍कतों में भी फायदा देगा। यह कवरेज आसानी से आपके मोटर इंश्‍योरेंस में जोड़ा जा सकता है। 
 
जरूरी है रोड साइड असि‍स्‍टेंस कवर 
 
अगर जलभराव के दौरान आपकी कार रुक गई है, तो आपको सर्वि‍स सेंटर तक कार को ले जाने के लि‍ए उसे टो करना होगा। ऐसी स्‍थि‍ती में अगर सेंटर दूर है तो अच्‍छी खासी रकम इसमें खर्च हो सकती है। इसलि‍ए जरूरी है कि‍ आप रोड साइड असि‍स्‍टेंस कवर लें। इससे गाड़ी को टो करने के  खर्चे की भरपाई हो जाएगी। 
 
जीरो डैप्रि‍सि‍एशन कवर 
 
जीरो डैप्रि‍सि‍एशन कवर से सुनिश्चित होता है कि‍ कार में बदले गए पार्ट्स का पूरा खर्चा इंश्‍योरेंस कंपनी वपहन करेगी। इसके लि‍ए आपको कुछ नहीं देना होगा। लेकि‍न यहां इस बात को ध्‍यान रखना जरूरी है कि‍ यह कवरेज 5 साल से पुरानी कारों पर लागू नहीं होता। जीरो डैप्रि‍सि‍एशन कवर की लागत गाड़ी की इंश्‍योर्ड डि‍क्‍लेयर वैल्‍यू (IDV) पर नि‍र्भर करती है। आमतौर पर इसकी लागत कार के आईडीवी के 0.20% और 0.25% के बीच होती है।  
 
जलभराव और मानसून में इन बातों का रखें ध्‍यान 
 
- अगर जलभराव का लेवल आपकी गाड़ी के टायर से ऊपर है तो आपको उस रास्‍ते को छोड़कर दूसरे रास्‍ते से नि‍कलना चाहि‍ए। ऐसे संभव न होने पर तुरंत गाड़ी को रोक लें और पानी में जाने से बचें। ऐसे न करने पर पर आपकी गाड़ी के इंजन को ज्‍यादा नुकसान पहुंचेगा। 
 
यह सबसे जरूरी है कि‍ अगर आप जलभराव वाली जगह को क्रॉस को कर रहे हैं तो तुरंत अपनी गाड़ी को पहले गि‍यर में ले आएं। इसके बाद जलभराव वाली जगह से बाहर नि‍कलने के बाद एक बार रेस देकर साइलेंसर को साफ कर लें ताकि‍ उसमें पानी न रहे। 
 
वहीं, बारि‍श के दौरान सड़क बहुत स्‍लि‍परी हो जाती है। ऐसे में आगे वाली गाड़ी से सेफ डि‍स्‍टेंस बनाकर रखें। इसके अलावा फॉग लाइट को भी ऑन रखें। 
 
अगर आपकी कार बारि‍श में डैमेज हो जाती है तो 48 घंटे के अंदर इंश्‍योरेंस कंपनी को सूचना दें। ताकि‍ आपके क्‍लेम से जुड़ी लीगल प्रोसेस को समय पर पूरा कि‍या जा सके।  
 
वहीं, बारि‍श के दौरान अगर पॉसि‍बल हो तो सड़क के बीच में ड्राइव करें।  
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=