बिज़नेस न्यूज़ » Insurance » Life Insuranceलाइफ इंश्‍योरेंस प्रीमियम का मिलेगा पूरा फायदा, 8 बातों का रखें ध्यान

लाइफ इंश्‍योरेंस प्रीमियम का मिलेगा पूरा फायदा, 8 बातों का रखें ध्यान

आमतौर पर जब लोग लाइफ इंश्‍योरेंस लेते हैं तो उस पॉलिसी के फीचर जानने की ज्‍यादा कोशिश नहीं करते हैं।

1 of

नई दिल्‍ली।  आमतौर पर जब लोग लाइफ इंश्‍योरेंस लेते हैं तो उस पॉलिसी के फीचर जानने की ज्‍यादा कोशिश नहीं करते हैं। वह इस बात को भी जानने की कोशिश नहीं करते हैं कि जितना प्रीमियम वह दे रहे हैं उतने पैसे में अधिकतम राशि का बीमा मिला है कि नहीं।  इसका नतीजा ये होता है कि उन्‍हें कई बार इंश्‍योरेंस का पूरा फायदा नहीं मिल पाता है। लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्‍स बताने जा रहे हैं जिसको फॉलो कर आप  सही लाइफ इंश्‍योरेंस का फायदा उठा सकते हैं।  

 

1. कवर और बजट की राशि तय करें


आपको कितना बीमा कवर की लेना चाहिए यह जानने के लिए पर्सनल फाइनेंस की वेबसाइटों पर उपलब्ध कैलकुलेटर की मदद ले सकते हैं। बीमा क्षतिपूर्ति के सिद्धांत पर काम करता है। आपको इसे क्षतिपूर्ति के नजरिये से ही देखना चाहिए, लाभ के नजरिये से नहीं। आपको यह ध्‍यान रखना होगा कि कौन सी बीमा पॉलिसी में ज्‍यादा रिस्‍क कवर है। 

 

2. किस कंपनी से पॉलिसी लें


एलआईसी की साख अच्छी है और ट्रैक रिकॉर्ड भी। इसके टर्म प्लान के लिए प्रीमियम अधिक चुकाना होगा। वहीं, प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियां ऑनलाइन मॉडल और अन्य कारणों से इस मामले में ज्यादा प्रतिस्पर्धी हैं। इसलिए अपने बजट और बीमा कवर की राशि के आधार पर तय करें आप किस कंपनी से पॉलिसी खरीदना चाहेंगे।
 

3. घोषणापत्र : जीवन में ईमानदारी बरतना सबसे अच्छी नीति है। पॉलिसी का प्रपोजल फॉर्म खुद भरें। सभी जरूरी तथ्यों का खुलासा करने में पर्याप्त सावधानी बरतें। मौजूदा मेडिकल स्टेटस मसलन, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर आदि की जानकारी छिपाना आपके हित में अच्छा नहीं है। आज कई तकनीक मौजूद हैं जो आपके स्वास्थ्य की सही तस्वीर सामने ला सकती है।

4. रेगुलर या सिंगल प्रीमियम: आमतौर पर रेगुलर प्रीमियम पॉलिसी लेना बेहतर रहता है। इसमें टैक्स बेनेफिट लेने के ज्यादा मौके मिल सकते हैं।

 

5.ऑनलाइन खरीदें या ऑफलाइन: किसी अच्छी बीमा कंपनी से टर्म प्लान ऑनलाइन खरीदना चाहिए। यह सुविधाजनक और सस्ता भी पड़ता है। 

 

6. बीमा या निवेश : बीमा और निवेश दोनों को अलग-अलग रखना चाहिए। अन्यथा यूलिप जैसे जटिल इंश्योरेंस प्रोडक्ट खरीदने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। ऐसा बीमा लेना आपको महंगा भी पड़ सकता है

 

7. कौन-सी पॉलिसी लें: विभिन्न वेबसाइटों पर मौजूद इंश्योरेंस पॉलिसियों के तुलनात्मक विश्लेषण का अध्ययन करें। इसके फीचर्स और अपनी बीमा जरूरत में तुलना करें। अपनी खोज का दायरा दो-तीन अच्छी पॉलिसियों तक सीमित करें। इंटरनेट पर दो-तीन वेबसाइट देखें और उनकी सिफारिशों की समीक्षा करें। किसी पॉलिसी को चुनने से पहले बेनेफिट इलस्ट्रेशन की समीक्षा करें। इससे आप छिपी लागत मालूम कर सकेंगे।

 

 

8. पॉलिसी की अवधि

 
यदि आपके पास वित्तीय परिसंपत्तियां अधिक हैं, तो आपको जीवन बीमा पर खर्च करने की जरूरत नहीं है। उम्र के साथ वित्तीय परिसंपत्तियां बढ़ती हैं और वित्तीय देनदारियां घटती हैं। रिटायर होने तक ज्यादातर आर्थिक जिम्मेदारियां पूरी हो चुकी होती हैं। इसलिए ऐसी पॉलिसी लें जो रिटायरमेंट की उम्र के आसपास खत्म हो रही हो।
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=