विज्ञापन
Home » Insurance » Life InsuranceMoney Habits Survey on Exide Life Insurance

सर्वे में हुआ खुलासा, अपनी सुरक्षा को लेकर लापरवाह हैं भारतीय

30 फीसदी लोगों को नहीं पता कि उन्हें कितने जीवन बीमा की जरूरत है

Money Habits Survey on Exide Life Insurance

हर व्यक्ति कभी ना कभी यह सोचता है कि वह भविष्य के लिए सेविंग्स करे ऐसे में जीवन बीमा सबसे ज्यादा पसंदीदा वित्तीय साधन है।  हर व्यक्ती घर, बच्चों की शिक्षा, सेवानिवृत्ति और विरासत के लिए सेविंग्स करता है। जब भी कभी बच्चों की शादी की बात आती है तो वे जीवन बीमा के अलावा सावधि जमा पर भरोसा करते हैं। हाल ही में एक सर्वे में पता चला कि देश के 30 फीसदी उत्तरदाताओं को इस बात का कोई अंदाजा नहीं है कि जीवन बीमा कवर कितना आवश्यक होता है। इस रिपोर्ट से पता चलता है कि भारतीय अपनी सुरक्षा को लेकर कितने लापरवाह है। 

नई दिल्ली। हर व्यक्ति कभी ना कभी यह सोचता है कि वह भविष्य के लिए सेविंग्स करे, ऐसे में जीवन बीमा सबसे ज्यादा पसंदीदा वित्तीय साधन है।  हर व्यक्ति घर, बच्चों की शिक्षा, सेवानिवृत्ति और विरासत के लिए सेविंग्स करता है। जब भी कभी बच्चों की शादी की बात आती है तो वे जीवन बीमा के अलावा सावधि जमा पर भरोसा करते हैं। हाल ही में एक सर्वे में पता चला कि देश के 30 फीसदी उत्तरदाताओं को इस बात का कोई अंदाजा नहीं है कि जीवन बीमा कवर कितना आवश्यक होता है। इस रिपोर्ट से पता चलता है कि भारतीय अपनी सुरक्षा को लेकर कितने लापरवाह है। 

 

सर्वे में 12 शहरों के उत्तरदाताओं को शामिल किया गया


एक्साइड लाइफ इंश्योरेंस की ओर से किए गए 2018 मनी हैबिट्स सर्वे बात इस बात का खुलासा हुआ है। इस सर्वे का मुख्य लक्ष्य वित्तीय जिम्मेदारियों को लेकर भारतीयों की धारणाओं को समझना था। इस सर्वे में महानगरों और उभरते टीयर 2 शहरों समेत 12 शहरों के उत्तरदाताओं को शामिल किया गया। इस सर्वे को करवाने के पीछे यह लक्ष्य था कि जीवन बीमा करवाने वाले कितने लोग अपन धन के नियोजन को लेकर क्या सोचते हैं। जीवन के प्रमुख लक्ष्यों की योजना बनाते समय वे कौन से वित्तीय साधनों पर ध्यान देते हैं? वे अपने परिवारों को कितना अच्छी तरह से सुरक्षित कर रहे हैं? इसके साथ ही वर्तमान में उनके पास कितना जीवन बीमा कवर है और इसे कितना होना चाहिए, इसे लेकर उनकी क्या सोच है। भारतीयों के रवैए को समझने के लिए सर्वे में हर दृष्टिकोण पर विचार किया गया। 

 

भारत में जीवन बीमा पैठ अन्य देशों के मुकाबले 3 फीसदी कम


सर्वे से यह स्पष्ठ हुआ कि भारतीय शायद ही कभी वित्तीय जिम्मेदारी की संपूर्णता को कवर करते हैं। मनी हैबिट्स सर्वेक्षण में सामने आया कि भारतीयों को झुकाव सिर्फ कमाने, बचत करने और जीवन के लक्ष्यों के लिए निवेश करने तक ही सीमित रहता है। एक्साइड लाइफ इंश्योरेंस में मार्केटिंग और डायरेक्ट चैनल के निदेशक मोहित गोयल ने कहा, वित्तीय जिम्मेदारी को समझना काफी मुश्किल हो सकता है। सर्वे  में पाया गया कि भारत में जीवन बीमा पैठ वर्तमान में अन्य विकासशील देशों की तुलना में 3 फीसदी तक कम है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=
विज्ञापन