Home » Insurance » Life Insurancegovernment gives sovereign guarantee on lic policy

LIC की है पॉलिसी तो कभी नहीं डूबेगा आपका पैसा, भारत सरकार की है सॉवरेन गारंटी

एलआईसी में भारत सरकार की है 100 फीसदी हिस्‍सेदारी

1 of

नई दिल्‍ली. अगर आपने भारतीय जीवन बीमा निगम यानी LIC से बीमा खरीदा  है तो आपका पैसा कभी नहीं डूबेगा। जब आपकी पॉलिसी की अवधि पूरी होगी या पॉलिसी के तहत क्‍लेम किया जाएगा तो आपको पॉलिसी के तहत मिलने वाले सारे बेनेफिट मिलेंगे। LIC की पॉलिसी पर भारत सरकार सॉवरेन गारंटी देती है। इसका मतलब है कि अगर LIC किसी भी वजह से दिवालिया भी हो जाती है तो आपको पॉलिसी की अवधि पूरी होने या क्‍लेम का सारा पैसा भारत सरकार देगी। 

 

क्‍या है सॉवरेन गारंटी का मतलब 

ओरिएंटल इन्‍श्‍योरेंस कंपनी लिमिटेड के रिटायर्ड डीजीएम एनके सिंह ने moneybhaskar.com को बताया कि अगर किसी के पास LIC की पॉलिसी है तो उसका निवेश पूरी तरह से सुरक्षित है। अगर उसने नियमों के तहत क्‍लेम किया है तो उसे क्‍लेम का पूरा पैसा हर हाल में मिलेगा। इसी तरह से पॉलिसी की अवधि पूरी होने पर भी उसे सभी मैच्‍योरिटी बेनेफिट मिलेंगे। LIC की पॉलिसी पर भारत सरकार की सॉवरेन गारंटी है। 

 

 

एलआईसी में भारत सरकार की है 100 फीसदी हिस्‍सेदारी 

एनके सिंह के मुताबिक एलआईसी में भारत सरकार की 100 फीसदी हिस्‍सेदारी है। एक तरह से कह सकते हैं कि एलआईसी की ओनर भारत सरकार है। एलआईसी का मुनाफा काफी अधिक है। ऐसे में आज तक भारत सरकार की ओर से एलआईसी में अपनी हिस्‍सेदारी बेचने को लेकर कभी कोई प्रस्‍ताव नहीं आया। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि एलआईसी की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत है। 

 

आगे भी पढ़ें 

एलआईसी की डील पर उठे सवाल 

 

हाल में एलआईसी ने आईडीबीआई बैंक में अपनी हिस्‍सेदारी बढ़ाकर 51 फीसदी करने के लिए डील की है। बीमा नियामक ने इस डील को मंजूरी दे दी है। अब तक आईडीबीआई बैंक में एलआईसी की हिस्‍सेदारी 11 फीसदी थी। यानी एलआईसी आईडीबीआई बैंक में 40 फीसदी हिस्‍सेदारी और खरीदेगी। हालांकि एक्‍सपर्ट्स ने आईडीबीआई बैंक में हिस्‍सेदारी बढ़ाने के एलआईसी के फैसले पर सवाल उठाए हैं। उनका मानना है कि इस डील से एलआईसी को कोई खास फायदा नहीं होगा।

 

भारतीय स्‍टेट बैंक के रिटायर्ड सीजीएम सुनील पंत का कहना है कि आईडीबीआई बैंक के लिए यह डील बेलआउट की तरह है। आईडीबीआई बैंक का एनपीए लगभग 28 फीसदी तक पहुंच गया है और आने वाले समय में और बढ़ने की आशंका है। हालांकि इस डील से एलआईसी को तुरंत कोई खास फायदा नहीं होगा। एलआईसी अपने एजेंजी चैनल के जरिए पहले ही देश के तमाम दूरदराज इलाकों में पहुंच रखती है। ऐसे में आईडीबीआई बैंक उसे अपने बीमा कारोबार को बढ़ाने में कोई खास मदद नहीं मिलेगी। 

 

 

एलआईसी ने 350 से ज्‍यादा कंपनियों में कर रखा है निवेश 

-LIC ने स्‍टॉक मार्केट की करीब 350 से ज्‍यादा कंपनियों में निवेश कर रखा है।

-LIC ने स्‍टॉक मार्केट में करीब 5 लाख करोड़ रुपए का निवेश कर रखा है।

-सिर्फ वर्ष 2017-18 में LIC ने 1.4 लाख करोड़ रुपए का‍ निवेश किया है। इसमें 80 हजार करोड़ रुपए सीधा निवेश है, जबकि 60 -हजार करोड़ रुपए का निवेश सरकार के विनिवेश कार्यक्रम के तहत किया था।

-2017-18 में स्टॉक से मुनाफा बढ़कर 25 हजार करोड़ रुपए हुआ।

-वर्ष 2015-16 में 11 हजार करोड़ रुपए तो 2016-17 में 19 हजार करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था।

 

 

आगे भी पढ़ें 

 

जीवन बीमा पॉलिसी बेचती है एलआईसी 

एलआईसी जीवन बीमा पॉलिसी बेचती है। एलआईसी की जीवन बीमा पॉलिसी दो तरह की होती है। एक एंडॉवमेंट प्‍लान यानी पांरपरिक बीमा पॉलिसी। इसमें जीवन बीमा कवर के साथ सेविंग का कंपोनेंट भी होता है। इसमें पॉलिसी होल्‍डर पॉलिसी की अवधि तक सरवाइव कर जाता है तो उसे एक निश्चित रकम मिलती है। अगर पॉलिसी अवधि के बीच में पॉलिसी होल्‍डर की मौत हो जाती है तो परिजनों को जीवन बीमा कवर के अलावा पॉलिसी के दूसरे बेनेफिट भी मिलते हैं। एलआईसी टर्मै इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान भी बेचती है। इस प्‍लान में  पॉलिसी होल्‍डर को सिर्फ जीवन बीमा कवर की पेशकश की जाती है। अगर पॉलिसी होल्‍डर पॉलिसी की अवधि में सरवाइव करता है तो उसे कोई पैसा नहीं मिलता है। इसीलिए टर्मै इन्‍श्‍योंरेस प्‍लान सस्‍ता होता है। पॉलिसी होल्‍डर को कम प्रीमियम में ज्‍यादा राशि का टर्मै इन्‍श्‍योरेंस कवर मिल जाता है। टर्मै इन्‍श्‍योरेंस कवर पॉलिसी होल्‍डर की मौत हो जाने पर परिजनों को एक तय अमाउंट मुहैया कराता है जो परिजनों के लिए आर्थिक सुरक्षा का काम करता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=