Advertisement
Home » Insurance » Life InsuranceHow to earn big money by being Insurance agent

हाई सोसायटी में हैं आपके अच्छे कनेक्शन, तो बीमा एजेंट बनकर कमा सकते हैं लाखों

नामी और अमीर परिवारों के लोग बीमा एजेंट बनने में नहीं करते कोई गुरेज

1 of

नई दिल्ली.

अगर आपको लगता है कि बीमा एजेंट बनना कोई छोटा-मोटा काम है, तो आप गलत हैं। यह एक ऐसा काम है जिसे बड़े-बड़े धनाढ्य घरों के लोग करते हैं और मोटा पैसा कमाते हैं। उदाहरण के तौर पर अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक बच्चन ने फिल्मों में आने से पहले जीवन बीमा निगम (LIC) के एजेंट के तौर पर काम किया है। इतना ही नहीं और भी कई हस्तियां और नामी गिरामी परिवारों से ताल्लुक रखने वाले लोग बीमा एजेंट बनने में कोई गुरेज नहीं करते। फिल्मकार और अभिनेता राज कपूर की बेटी और एस्कॉर्ट्स ग्रुप के चेयरमैन राजन नंदा की पत्नी ऋतु नंदा को एलआईसी एजेंट बने 20 साल से भी ज्यादा समय हो गया है। उनका नाम कंपनी के टॉप एजेंट्स में गिना जाता है और वह कई साल तक प्रीमियम से सबसे ज्यादा सालाना आय कमाने वाली एजेंट रह चुकी हैं। इसके पीछे कई सारे कारण हैं। ऐसे में अगर आपका उठना-बैठना अमीरों के बीच है तो आपके लिए बीमा एजेंट बनने फायदे का सौदा हो सकता है। 

 

मिलता है बड़ा फायदा

बड़े परिवाराें के लोग एलआईसी एजेंट बनना इसलिए पसंद करते हैं क्योंकि इससे उन्हें काफी फायदा होता है। सबसे पहले तो वे सही बीमा पॉलिसी चुनने में अपने परिवार की मदद कर पाते हैं। दूसरे एजेंट के तौर पर जो कमीशन मिलता है वह काफी ज्यादा होता है क्योंकि अक्सर अमीर घरों में पॉलिसी भी काफी बड़ी राशि की कराई जाती है। ऐसे में अधिकांश बड़े परिवारों के लोग अपने परिवार के बीमा एजेंट बन जाते हैं। इससे पैसों के साथ समय की भी बचत होती है। किसी एजेंट से बीमा पॉलिसी खरीदने पर प्रीमियम का तकरीबन 30 फीसदी उसे कमीशन के रूप में मिलता है। जब परिवार का ही कोई सदस्य बीमा एजेंट होता है तो यह रकम बच जाती है।

 

आगे पढ़ें- आपके लिए भी खुले हैं रास्ते

 

 

आप भी कर सकते हैं कमाई

अगर आपका उठना-बैठना हाई-प्रोफाइल लोगों के साथ है तो आप भी बीमा एजेंट बनकर इसका लाभ उठा सकते हैं। अगर लोग आपके ऊपर भरोसा करते हैं तो आपके लिए यह काम और भी आसान होगा। अधिकतर धनाढ्य लोग महंगी पॉलिसी ही खरीदते हैं। ऐसे में आपको जो कमीशन मिलेगा वह काफी बड़ा होगा। दूसरी बात यह कि लोग भरोसेमंद एजेंट्स को ढूंढते हैं जो उन्हें सबसे अच्छी पॉलिसी खरीदने में मदद कर सकें। कमीशन के लालच में अक्सर लोग गलत पॉलिसीज बेच देते हैं।

 

आगे पढ़ेंबनी रहती है पारदर्शिता

 

 

बनी रहती है पारदर्शिता

अक्सर पॉलिसी का रिन्युअल नहीं कराने से भी पॉलिसी लैप्स हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है कि पॉलिसी धारक को पॉलिसी रिन्यू कराना याद नहीं रहता और एजेंट अपना कमीशन पाने के बाद इस मामले में दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं। ऐसे में अगर परिवार या दोस्तों में से कोई एजेंट होता है तो इस तरह की दिक्कतें नहीं आती हैं।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=
Don't Miss