Home » Insurance » Home Insuranceknow how home insurance secure your Compensation for loss

चोरी हो या डकैती, होम इन्‍श्‍योरेंस करेगा नुकसान की भरपाई

एक सामान्‍य व्‍यक्ति अपने जीवन भर की गाढ़ी कमाई के बाद अपने और अपने परिवार के लिए एक सुरक्षित घर बना पाता है।

know how home insurance secure your Compensation for loss

नई दिल्‍ली ।  एक सामान्‍य व्‍यक्ति अपने जीवन भर की गाढ़ी  कमाई के बाद अपने और अपने परिवार के लिए एक सुरक्षित घर बना पाता है। लेकिन सुरक्षा के तमाम इंतजाम के बावजूद बड़े से लेकर छोटे शहरों के घर में चोरी या डकैती होने की आशंका बनी रहती है।  यह आशंका काफी हद तक जायज भी होती है। क्‍योंकि चोरी या डकैती की स्थिति में कमाई का एक बहुत बड़ा हिस्‍सा खोने का डर होता है। लेकिन इस डर और आशंका से मुक्ति के लिए होम इन्‍श्‍योरेंस कराना बेहतर होता है। दरअसल, होम इंश्‍योरेंस होने की स्थिति में आपका सामान तो नहीं मिलता लेकिन हां, नुकसान की भरपाई जरुर हो जाती है।  ​तो आइए जानते हैं कैसे होम इंश्‍योरेंस नुकसान की भरपाई करता है। 

 

 

सरकारी बीमा कंपनी ओरिएंटल इन्‍श्‍योंरेस के पूर्व डीजीएम एनके सिंह ने मनीभास्‍कर को बताया कि होम इंश्‍योरेंस में क्‍या कवर होता है। 


स्‍ट्रक्‍चर : घर को किसी भी तरह का नुकसान, जैसे फिक्‍सचर एवं फिटिंग, कोई रिनोवेशन, जो आग, भूकंप या बाढ़ के कारण क्षतिग्रस्‍त हुआ हो इंश्‍योरेंस में कवर होता है। इसमें गैराज, ड्रेनेज और सीवर भी शामिल है। 


घर में रखा सामान : इंश्‍योरेंस में घर में कीमती सामान, अप्‍लायंसेस, जेवरात भी कवर होती है। आप इन्‍हें ट्रांसपोर्टेशन के दौरान होने वाले नुकसान में भी कवर कर सकते हैं। 
 

चोरी : होम इंश्‍योरेंस में आपके घर में हुई चोरी के कारण आपको हुए नुकसान की पूरी भरपाई की जाएगी।  


अल्‍टरनेट एकोमेडेशन : यदि आपकी प्रॉपर्टी पूरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो गई है और आप किसी और जगह रहते हैं तो उस पर आने वाले खर्च का भुगतान इंश्‍योरेंस पॉलिसी द्वारा किया जाएगा। 
कुछ पॉलिसी आपको लीगल या मेडिकल लायबिलिटी का भी भुगतान करती है, जिसमें आपके घरेलू नौकर या तीसरी पार्टी को नुकसान पहुंचा हो। 

 

इंश्योरेंस लेते समय इन बातों का रखें ध्‍यान 

 

1. कोई भी होम इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय इस बात को अच्छी तरह जांच लें कि प्लान के तहत आपके घर की कौन-कौन सी चीज कवर हो रही हैं।

 

2. इंश्योरेंस लेते समय ही आपको क्लेम के तरीका भी समझ लेना चाहिए। हो सकता है कि दो कंपनियों की पॉलिसी आपको एक बराबर रकम देने का वादा करें, लेकिन क्लेम लेते समय उतनी रकम न मिले। इससे बचने के लिए यह निश्चित कर लें कि जितना पैसा बताया जा रहा है, वह सारा पैसा क्लेम के रूप में मिलेगा या कुछ कम।

 

3. यह देख लें कि इंश्योरेंस कंपनी उन सभी सामान की कीमत दे, जिनका आपको नुकसान हुआ है, न कि सिर्फ उनकी, जिन्हें आप दोबारा खरीदने वाले हैं।

 

4. जब भी आप कोई क्लेम करते हैं, तो कंपनी पहले दो बातों की जांच करती है कि वास्तव में वे चीजें आपके पास थी भी या नहीं और क्या आपके द्वारा बताई गई कीमत सही है? ऐसी स्थिति में आपका पक्ष मजबूत रहे, इसके लिए आप पॉलिसी कराते समय ही कवर्ड सामान की विडियो बना सकते हैं। लेकिन इस सीडी को घर में ही मत रखिएगा, क्योंकि बाकी सामान के साथ आप इसे भी खो सकते हैं।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=