बिज़नेस न्यूज़ » Insurance » Health Insuranceहेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस कवर खरीदते समय न करें ये 5 गलतियां, रिजेक्‍ट हो सकता है क्‍लेम

हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस कवर खरीदते समय न करें ये 5 गलतियां, रिजेक्‍ट हो सकता है क्‍लेम

आप ऑनलाइन कुछ सेकेंड में हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीद सकते हैं।

common mistakes buyers do while buying health insurance plan

नई दिल्‍ली। अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए सही हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीदना आसान काम नहीं है। आज के समय में आप ऑनलाइन कुछ सेकेंड में हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीद सकते हैं। कई बार लोग प्‍लान की शर्तो को पढें बिना ही जल्‍द बाजी में हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीद लेते हैं। बाद में उनको इसका खा‍मियजा उठाना पड़ता है। आज हम आपको कुछ ऐसी कॉमन गलतियों के बारे में बता रहे जिनसे हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीदते समय बचना चाहिए। 


पर्याप्‍त कवरेज न होना

 

आम तौर पर जब कोई भी हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीदने का फैसला करता है तो प्‍लान का प्रीमियम इसमें अहम भूमिका निभाता है। कई बार लोग प्रीमियम पर खर्च बचाने के लिए कम कवरेज का प्‍लान ले लेते हैं। जैसे किसी को 6 लाख रुपए कवरेज की जरूरत है लेकिन प्रीमियम ज्‍यादा होने की वजह से वह व्‍यक्ति 4 लाख रुपए कवरेज का प्‍लान ले लेता है।  प्‍लान का प्रीमियम एक अहम फैक्‍टर है लेकिन सिर्फ प्रीमियम पर आने वाले खर्च के आधार पर ही प्‍लान का चुनाव नहीं करना चाहिए। 

 

बीमा कंपनियों के प्‍लान को कंपेयर न करना 

 

आपको हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान के लिए किसी एक बीमा कंपनी पर भरोसा नहीं करना चाहिए। मान लिया आपने किसी बीमा कंपनी से हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान ले लिया है तब भी रिन्‍यूअल के समय आपके पास यह ऑप्‍शन है कि आप तमाम बीमा कंपनियों के प्‍लान और उसके बेनेफिट को कंपेयर कर सकते हैं अगर आपको लगता है कि आपको कोई दूसरी बीमा कंपनी ज्‍यादा बेनेफिट दे रही है तो आपको दूसरी बीमा कंपनी का प्‍लान लेना चाहिए। 

 

प्‍लान की शर्तो को ध्‍यान से न पढ़ना 

 

आम तौर पर लोग हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान लेते समय इस बात पर ध्‍यान देते हैं कि कौन सी बीमारी प्‍लान में कवर है और प्‍लान का कवर कितना है। । लेकिन आम तौर पर लोग प्‍लान की शर्तो के बारे में ध्‍यान नहीं देते हैं कि पॉलिसी में कौन सी चीजें कवर नहीं। पॉलिसी में क्‍या कवर है यह जानना जरूरी है लेकिन आपके लिए यह जानन भी जरूरी है कि आपके प्‍लान में कौन सी चीजें कवर नहीं हैं। 

 

मेडिकल हिस्‍ट्री की सही जानकारी न देना 

 

बीमा कंपनियां कई कारणों से आपका क्‍लेम रिजेक्‍ट कर सकती हैं। इसमे एक बड़ा कारण यह हो सकता है कि आपने अपनी मेडिकल हिस्‍ट्री के बारे में कंपनी को सही जानकारी नहीं देी है। हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान खरीदते समय बीमा कंपनी को प्री एग्जिस्टिंग डिजीज यानी जो बीमारी आपको पहले से है इसके बारे में सही जानकारी देना जरूरी है। इसके अलावा भीर आपको अगर कोई मेडिकल प्राब्‍लम हो चुकी है तो आपको इसके बारे में बीमा कंपनी को बताना चाहिए। 

 

कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन का फीचर है या नहीं 

 

हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान लेते समय आपको यह जरूर चेक करना चाहिए कि आपके प्‍लान में कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन  की सुविधा है या नहीं। कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन का मतलब है कि जरूरत पड़ने पर आप हॉस्पिटल में भर्ती हो सकते हैं और मेडिकल बिल का भुगतान बीमा कंपनी करेगी। कई बार लोग इस फीचर पर समझौता कर लेते हैं और सोचते हैं कि वे पैसा जुटा कर इलाज करा लेंगे और बाद में बीमा कंपनी इलाज पर आने वाले खर्च को रीइम्‍बर्स कर देगी।  

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=