Home » Insurance » Health InsuranceIrdai allows inclusion of 10 more insurers for medical treatments

अब दांतों का भी होगा इंश्योरेंस, IRDAI ने बदले नियम

नए सर्कुलर में IRDAI ने हेल्थकेयर पॉलिसी के ऑप्शनल कवर से 10 आइटम्स को हटाया।

Irdai allows inclusion of 10 more insurers for medical treatments

नई दिल्ली.  इंश्योरेंस नीतियों के नियम बनाने वाली संस्था इंश्योरेंस रेग्युलेटरी ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) ने मरीजों के लिए हेल्थकेयर पॉलिसी में बदलाव किया है। IRDAI के नए सर्कुलर के अनुसार अब दातों का भी इंश्योरेंस होगा। इसके अलावा स्टेम सेल, इंफर्टिलिटी और मानसिक बीमारियों को भी मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी में शामिल किया गया है।

 

10 आइटम्स को ऑप्शनल कवर से हटाया

मंगलवार को जारी नए सर्कुलर में IRDAI ने हेल्थकेयर पॉलिसी के ऑप्शनल कवर से 10 आइटम्स हटा दिए हैं। इसमें डेंटल, स्टेम सेल, इंफर्टिलिटी और मानसिक बीमारी शामिल हैं। इसके अलावा, मोटापे का इलाज, सब-फर्टिलिटी, हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी, साइकोसोमैटिक प्रोसेड्योर, करेक्टिव सर्जरी फॉर रिफ्रैक्टिव एरर, सेक्युअली ट्रांसमिटेड बीमारी का इलाज, HIV और AIDS के इलाज पर हुए खर्च को भी ऑप्शनल कवर से बाहर कर दिया गया है। ऑप्शनल कवर से हटाए जाने के बाद अब इंश्योरेंस कंपनियां दांतों को भी मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर करेंगी।

 

 

मानसिक बीमारियों को भी कवर करेंगी इश्योरेंस कंपनियां

IRDAI ने  इंश्योरेंस कंपनियों को मानसिक बीमारी (मेंटल इलनेस) को भी मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर करने को कहा है। इरडा ने स्पष्ट किया है कि मानसिक बीमारी को भी शारीरिक बीमारियों की तरह ही माना जाए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Ask Your Questions
Any query related to insurance?
Ask us
*
*
*
*
4
+
5
=
Don't Miss