Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Industry »Startups» Mobile Wallet Companies Focusing On Small Towns As Growth Come From Here

    छोटे शहरों पर टि‍की मोबाइल वॉलेट की ग्रोथ, नोटबंदी के बाद दोगुना हुआ ट्रांजैक्‍शन

     
    नई दि‍ल्‍ली। इसमें कोई शक नहीं है कि‍ नोटबंदी के बाद सबसे ज्‍यादा फायदा मोबाइल वॉलेट कंपनि‍यों का हुआ है। इसका अंदाजा कि‍सी बात से लगाया जा सकता है कि‍ 500 रुपए से 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने के बाद मोबाइल वॉलेट ट्रांजैक्‍शन में 54 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई है। एम-वॉलेट का इस्‍तेमाल न केवल बड़े शहरों बल्‍कि‍ छोटे शहरों में भी बढ़ा है। कंपनि‍यों का मानना है कि‍ अब एम-वॉलेट की ग्रोथ छोटे शहरों पर ही टि‍की हुई है। यही वजह है कि‍ कंपनि‍यां अपने प्‍लैटफॉर्म को छोटे शहरों के लि‍ए तैयार कर रही हैं।    
     
    डबल हुई छोटे शहरों में ग्रोथ  
     
    देश की सबसे बड़ी मोबाइल वॉलेट कंपनी पेटीएम के वाइस प्रेसि‍डेंट दीपक एबट ने moneybhaskar.com को बताया कि‍ नोटबंदी के बाद से अब तक छोटे शहरों में एम-वॉलेट का इस्‍तेमाल तेजी से बढ़ा है। उन्‍होंने बताया कि‍ मेट्रो सि‍टीज की तुलना में छोटे शहरों में पेटीएम की ग्रोथ डबल हो गई है।
     
    मोबि‍क्‍वि‍क के फाउंडर बि‍पि‍न प्रीत सिंह ने moneybhaskar.com को बताया कि‍ छोटे शहरों में एम-वॉलेट का यूज तेजी से बढ़ा है। छोटे शहरों में होने वाले डाउनलोड और ट्रांजैक्‍शन में  18 गुना का इजाफा दर्ज कि‍या गया है। वहीं, ऐप वॉलेट में 2000 फीसदी ज्‍यादा पैसे डाले गए हैं। कंपनी के देश भर में कुल 14 लाख से ज्‍यादा मर्चेंट्स हो गए हैं।
     
    कंपनि‍यों ने टि‍यर-2 और 3 शहरों पर बढ़ाया फोकस
     
    बढ़ती ग्रोथ को देखते हुए कंपनि‍यों ने अपना फोकस टि‍यर-2 और 3 शहरों में बढ़ा दि‍या है। दीपक एबट ने बताया कि‍ छोटे शहरों में ग्रोथ बढ़ने के पीछे कंपनी की ओर से बढ़ाए गए कदम हैं। पेटीएम ने अपने प्‍लैटफॉर्म को 11 वि‍भि‍न्‍न भाषाओं में शुरू कर दि‍या है। इसके अलावा मर्चेंट्स नेटवर्क को बढ़ाया है।
     
    बि‍पि‍न ने बताया कि‍ जब तक छोटे शहरों की छोटी दुकानों में मोबाइल मनी पहुंचेगा तब तक इसमें ग्रोथ नहीं आएगी। इसी वजह से मोबि‍क्‍वि‍क ने ऐप का छोटा वर्जन लॉन्‍च कि‍या था। इसके अलावा, इस ऐप को कई वि‍भि‍न्‍न क्षेत्रि‍ए भाषाओं में पेश कि‍या गया है।
     
    नोटबंदी के बाद एम-वॉलेट की ग्रोथ
     
    रि‍जर्व बैंक ऑफ इंडि‍या (आरबीआई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबि‍क, एम-वॉलेट्स के जरि‍ए दि‍संबर 2016 में 21.3 करोड़ ट्रांजैक्‍शन कि‍ए गए जबकि‍ नवंबर में यह आंकड़ा 13.8 करोड़ का था। इसमें 54 फीसदी की ग्रोथ आई है। वहीं, वैल्‍यू के हि‍साब से एम-वॉलेट में दि‍संबर में 7,448 करोड़ रुपए का ट्रांजैक्‍शन हुआ जबकि‍ एक माह पहले यह आंकड़ा 3,305 करोड़ रुपए था।
     
    माहट्रांजैक्‍शन की संख्‍यावैल्‍यू में ट्रांजैक्‍शन
    सि‍तंबर7.53 करोड़3,192 करोड़ रुपए
    अक्‍टूबर9.95 करोड़3,385 करोड़ रुपए
    नवंबर      13.8 करोड़3,305 करोड़ रुपए
    दि‍संबर21.8 करोड़7,448 करोड़ रुपए
     
     
     
     
     
     

    और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY