विज्ञापन
Home » Industry » StartupsReliance Jio buys conversational Al platform Haptik for ₹7 billion

लाखों की जॉब छोड़ दो दोस्तों ने शुरू की कंपनी, अंबानी ने लगा दिए 700 करोड़ 

अमेजन और गूगल को टक्कर देने के लिए मुकेश अंबानी का दांव

1 of

नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) की सब्सिडियरी रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने एक छोटी सी कंपनी पर 700 करोड़ रुपए का दांव लगाया है। दरअसल मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के स्वामित्व वाली कंपनी ने दुनिया के सबसे बसे कनवर्सेशनल आर्टीफीशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) यानी एआई प्लेटफॉर्म हैप्टिक (Haptik) को 700 करोड़ रुपए में खरीदने का ऐलान किया है। इस कंपनी की शुरुआत लगभग 6 साल पहले दो दोस्तों ने की थी।

 

इस तरह से हुई डील

कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस डील में अधिग्रहण के वास्ते शुरुआती बिजनेस ट्रांसफर के लिए 230 करोड़ रुपए दिए जाएंगे, जिसमें ग्रोथ और विस्तार के लिए इन्वेस्टमेंट शामिल है। रिलायंस जियो (Reliance Jio) के डायरेक्टर आकाश अंबानी ने कहा, ‘इस रणनीतिक निवेश से डिजिटल इकोसिस्टम को बढ़ावा देने और भारतीय यूजर्स को मल्टी लिंगुअल क्षमताओं के साथ कन्वर्सेशनल एआई-इनेबल्ड डिवाइसेस उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता जाहिर होती है।’
हैप्टिक ने अप्रैल, 2016 में टाइम्स इंटरनेट से फंड जुटाया था, जो इस डील के माध्यम से इस बिजनेस से बाहर निकल जाएगी।

 

यह भी पढ़ें-2 महीने के कोर्स ने ऐसी बदली जिंदगी, मंथली होने लगी 1 लाख रु की इनकम

 

 

इन दो दोस्तों ने की थी शुरुआत

हैप्टिक (Haptik) की स्थापना वर्ष 2013 में दो दोस्तों आकृत वैश (Aakrit Vaish) और स्वपन राजदेव (Swapan Rajdev)  ने की थी। दोनों ने इलिनॉइस यूनिवर्सिटी, अर्बना-शैंपेन में साथ में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी। आकृत ने वर्ष 2006 में मोटोरोला से अपना करियर शुरू किया और इसके बाद शिकागो ट्रांजिट अथॉरिटी, डेलॉयट कंसल्टिंग में भी काम किया। आकृत हैप्टिक के सीईओ हैं।

वहीं हैप्टिक के सीटीओ स्वपन ने आईबीएम से करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने एक्सेंचर, रेडियस इंटेलिजेंस सहित कई कंपनियों में काम किया।

 

यह भी पढ़ें-Paytm देगा कमाने का मौका, घर बैठे लगा सकेंगे पैसा

 

 

जियो के पास हैं 29 करोड़ सब्सक्राइबर

आईएएनएस की पिछले हफ्ते की रिपोर्ट के मुताबिक, इस अधिग्रहण से जियो, अमेजन एलेक्सा और गूगल असिस्टैंट को चुनौती देने में सक्षम हो जाएगी। ये दोनों ही कंपनियां भारतीय बाजार में तेजी से अपनी पैठ बढ़ा रही हैं। हाल में ट्राई द्वारा जारी डाटा के मुताबिक, जियो का सब्सक्राइबर बेस 29 करोड़ तक पहुंच गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन