बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Startupsपुरानी किताबों ने इन्हें बनाया 21 करोड़ का मालिक, आपके पास भी है कमाने का मौका

पुरानी किताबों ने इन्हें बनाया 21 करोड़ का मालिक, आपके पास भी है कमाने का मौका

आप भी कर सकते हैं पुरानी किताबों से कमाई, बस थोड़ी सी पूंजी और मेहनत की जरूरत

1 of

नई दिल्ली। आप अपनी किताबों को पढ़कर क्या करते हैं, या तो रद्दी में बेच देते है या फिर ऐसे ही रखे रखे खराब हो जाती हैं। लेकिन आपको चार ऐसे लोगों के बारे में बता रहे हैं जो पुरानी किताबों के कारण आज 21 करोड़ के मालिक बन चुके हैं। अपने युनिक आइडिया की वजह से आज इनकी कंपनी वर्ल्ड ऑफ बुक्स यूके की सबसे बड़ी ओल्ड बुक सेलर बन चुकी है। आप भी इनकी आइडिया से सीख कर पुरानी किताबों से कमाई कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि कैसे एक पुराने किताब ने इन्हें करोड़पति बनाया।

 

ऐसे आया पुरानी किताबें बेचने का आइडिया
लंदन के 35 साल के बेन मैक्स को एक बार एक किताब की जरुरत पड़ी। उसने इस किताब को हर दुकान में ढूंढ लिया लेकिन किताब नहीं मिली। फिर उनके एक दोस्त ने बताया है कि उनके पास वो किताब है। आखिरकर मैक्स को यह किताब उनके दोस्त से मिली लेकिन, किताब काफी पुरानी हो चुकी थी। उसके कुछ पन्ने भी फट चुके थे। यहीं से मैक्स और उसके दोस्त ने ठान लिया वो पुरानी किताबों का बिजनेस करेंगे। फिर मैक्स और उनके तीन दोस्तों ने अपने घर की सभी पुरानी किताब इक्कठी करने लगे।
 
अागे जानें - कहां बेचने लगे पुरानी किताबें... 

पुरानी किताबों के लिए ग्राहक तलाशना बनी चुनौती
इन चार दोस्तों ने करीब 3 महीने तक हर फील्ड की पुरानी किताबें इक्कठी तो कर ली, लेकिन अब इसे बेचा कैसे जाए ये बड़ी चुनौती बन गई। फिर मैक्स के पिता ने बताया कि ईबे और अमेजन जैसी ई-कॉमर्स कंपनियां पुरानी किताबें खरीदती हैं। इन लोगों ने अमेजन और ईबे को संम्पर्क किया। इन लोगों ने जमा की हुई किताबें इन दोनों कंपनियों को बेचनी शुरू कर दी। देखते ही देखते करीब 2 साल में इनके किताबों की डिमांड बढ़ने लगी।

 

अागे पढ़ें- आइडिया को बिजनेस में कैसे बदला..

 

 

1,000 किताबों से 20 लाख किताबों का सफर
इन चार लोगों ने पहले 1,000 पुराने किताबों का स्टॉक बनाया। इनके 1,000 किताब ईबे और अमेजन पर तीन महीने में ही बिक गये। ईबे के ग्राहकों ने इन्हें 99.1 फीसदी का पॉजिटिव फीडबैक दिया। अच्छे फीडबैक को देखकर ये दोस्त उत्साहित थे, अब इन्होंने इस कंपनी का रुप देने का मन बना लिया।  किताबों से इन चारों दोस्त को बेहद लगाव था, इसलिए इन्होंने कंपनी का नाम रखा ‘वर्ल्ड ऑफ बुक्स’ ‘वर्ल्ड ऑफ बुक्स’ में इन्होंने हर तरह के किताब बेचने का फैसला किया। बच्चों की स्कूल की किताब से लेकर फेमस नॉवेल तक बेचने लगा ‘वर्ल्ड ऑफ बुक्स’

 

अागे पढ़ें- कैसे बनी 21 करोड़ की कंपनी


 

पुरानी किताबें बेहद कम दाम पर बेचने लगे 
इन चार लोगों ने अपनी कंपनी की यूएसपी ये रखी कि ये सबसे कम दाम पर किताब ग्राहकों को मुहैया कराएंगे। आज इस कंपनी में करीब 20 लाख पुरानी किताबों का स्टॉक है। आपको इनकी कंपनी में हर तरह की किताबें मिल जाएंगी। कंपनी आज दुनिया के 90 शहरों में किताबें सप्लाई करती है। कंपनी के केवल इस साल का नेटवर्थ 21 करोड़ रुपए का है। यूके में पुरानी किताबों का सबसे बड़ा मार्केटप्लेस बन चुका है वर्ल्ड ऑफ बुक्स इनकी किताबों को ग्राहकों ने 8 लाख पॉजिटिव फीडबैक दिया है।

 

आगे पढ़ें- कैसे कर सकते है आप भी कमाई..

 

 

युनीक कॉन्सेप्ट से कर सकते हैं आप भी कमाई
आप भी अगर बुक लवर है और इसे बिजनेस बनाना चाहते है तो इस आइडिया पर काम सकते हैं। पुरानी किताबों का हर शहर में एक खास मार्केट होता है जहां से किताबे बेहद कम दाम पर खरीद सकते हैं। मसलन, पुरानी दिल्ली में हर रविवार को पुरानी किताबों को सेल लगता है यहा जाकर आप किताबें खरीद सकते हैं। ई-कॉमर्स कंपनियों को आप अपनी किताबें बेच सकते हैं। अगर आपको इससे ज्यादा कमाई करनी है तो आपको ऐसी किताबों को क्लेक्शन बनाना होगा जो आसानी से नही मिलता।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट