बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Startups'डिजाइन इन इंडिया' समय की मांग, स्‍टार्टअप के लिए बनाया 10 हजार करोड़ का फंड: मोदी

'डिजाइन इन इंडिया' समय की मांग, स्‍टार्टअप के लिए बनाया 10 हजार करोड़ का फंड: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्टार्ट-अप और इनोवेशन के लिए काम कर रहे युवाओं से बात की।

1 of

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्टार्ट-अप और इनोवेशन के लिए काम कर रहे युवाओं से बात की। उन्होंने कहा कि स्टार्टअप अब सिर्फ बड़े शहरों तक सीमित नहीं रह गए हैं। छोटे शहर और गांव भी अब स्टार्टअप सेंटर्स की तरह उभर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि पहले स्टार्ट-अप शुरू करने के लिए युवाओं को फंड की कमी का सामना करना पड़ता है। स्टार्ट-अप को बढ़ावा देने के लिए हमने 10 हजार करोड़ रुपए का फंड बनाया है। आज के युवा नौकरियां देने वाले बन रहे हैं। 

 


'डिजाइन इन इंडिया' समय की मांग
उन्‍होंने कहा कि एक समय था जब स्टार्ट-अप सिर्फ डिजिटल और टेक इनोवेशन के लिए बना था। अब हालात बदल रहे हैं, हम कई क्षेत्रों में स्टार्ट-अप देक रहे हैं। मेक इन इंडिया' के साथ-साथ 'डिज़ाइन इन इंडिया' समय की मांग है। बता दें कि इन दिनों प्रधानमंत्री सरकार की योजनाओं से जुड़े लोगों से मोदी ऐप के जरिए लगातार बात कर रहे हैं। मंगलवार को उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों से बात की थी।

 

45 फीसदी स्टार्ट-अप महिलाओं ने शुरू किए 
मोदी ने कहा कि दुनियाभर के स्टार्टअप इकोसिस्टम में भारत ने अपना अलग स्थान बनाया है। यही वजह है कि आज के युवा नौकरियां देने वाले बन रहे हैं। स्टार्ट-अप सेक्टर में आगे बढ़ने के लिए लोगों से पर्याप्त पूंजी और लोगों से जुड़ना बेहद जरूरी है। आज 45 फीसदी स्टार्ट-अप महिलाओं द्वारा शुरू किए जा रहे हैं। 

 

आंत्रप्रेन्योर्स को दे रहे कानूनी मदद 
उन्‍होंने कहा कि हमने सहायकों की एक टीम बनाई है जो स्टार्ट-अप के लिए आंत्रप्रेन्योर्स को कानूनी मदद मुहैया करवा रही है। हमने एग्रीकल्चर ग्रांड चैलेंज शुरू किया है। एग्रीकल्चर सेक्टर में बदलाव लाने के लिए हम युवाओं को नए विचार देने के लिए आमंत्रित करते हैं। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि हैंडीक्राफ्ट क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के आदिवासियों की कला अनमोल है। छत्तीसगढ़ की इस कला को वैश्विक स्तर पर और अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए मैं इनोवेटर्स से नए तरह से सोचने कि लिए कहूंगा। हमें छत्तीसगढ़ के जनजातीय समुदायों को वैश्विक प्लेटफॉर्म देना है।

 

तीन योजना के लाभार्थियों से बात कर चुके हैं मोदी

पीएम मोदी ने 5 जून को प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों से ऐप पर बात की थी। इससे पहले 28 मई को नमो ऐप के जरिए उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों से बातचीत की थी। इसके बाद, 29 मई को मुद्रा योजना के लाभार्थियों से उनके अनुभव शेयर किए। इसके बाद स्किल इंडिया के लाभार्थियों से बात की।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट