विज्ञापन
Home » Industry » Startupsstartup scheme is not working says report

मोदी सरकार की ये योजना रही पूरी तरह फेल, 82 फीसदी को नहीं मिला इसका लाभ

लोकल सर्कल्स के सालाना रिपोर्ट 2019 में हुआ इसका खुलासा

startup scheme is not working says report

 देश के करीब 82 फीसदी स्टार्टअप्स को अभी तक केंद्र सरकार की startup India पहल के तहत कोई लाभ नहीं मिला है। लोकलसर्कल्स के सालाना स्टार्टअप सर्वेक्षण 2019 में इसका खुलासा हुआ। रिपोर्ट में कहा गया कि Startup india का केवल 18 फीसदी स्टार्टअप्स और एसएमईज (छोटेऔर मझोले उद्यम) को फायदा मिला है। इसका मतलब यह है कि जोरशोर से प्रचार किए जा रहे इस योजना से 82 फीसदी स्टार्टअप्स या एसएमईज को कोई लाभ नहीं हो रहा है। 

नई दिल्ली. देश के करीब 82 फीसदी स्टार्टअप्स को अभी तक केंद्र सरकार की startup India पहल के तहत कोई लाभ नहीं मिला है। लोकलसर्कल्स के सालाना स्टार्टअप सर्वेक्षण 2019 में इसका खुलासा हुआ। रिपोर्ट में कहा गया कि Startup India का केवल 18 फीसदी स्टार्टअप्स और एसएमईज (छोटेऔर मझोले उद्यम) को फायदा मिला है। इसका मतलब यह है कि जोरशोर से प्रचार किए जा रहे इस योजना से 82 फीसदी स्टार्टअप्स या एसएमईज को कोई लाभ नहीं हो रहा है। 

 

15 हजार स्टार्टअप पर हुआ सर्वेक्षण 

लोकलसर्किल एक सामुदायिक लोकल मीडिया प्लेटफार्म है, जिसने देश के 15,000 स्टार्टअप्स, एसएमईज और आंत्रप्रेन्यर्स का सर्वेक्षण किया। स्टार्टअप इंडिया पहल को साल 2016 के जनवरी में लांच किया गया था, जिसका लक्ष्य देश के स्टार्टअप्स को इंकूवेशन, फंड और कर छूट प्रदान करने समेत अन्य फायदा पहुंचा कर मदद करना था। इसके अलावा इस सर्वेक्षण में स्टार्टअप पर लगने वाले 'एंजेल टैक्स' मुद्दे पर भी चर्चा की गई, जिसमें 32 फीसदी स्टार्टअप्स ने बताया कि साल 2018 में इस संबंध में उन्हें आयकर विभाग से कई नोटिस मिले। रिपोर्ट में कहा गया, "एंजेल टैक्स से आंत्रप्रेन्योर की मुश्किलें बढ़ी है, क्योंकि कई एसएमईज और स्टार्टअप्स को इस संबंध में आयकर विभाग ने नोटिस भेजे।

 

24 फीसदी ने स्टार्टअप बंद करने की कही बात 

सर्वेक्षण में साल 2019 को लेकर 71 फीसदी स्टार्टअप के संस्थापक ने कहा कि वे अपने संगठन को आगे बढ़ाएंगे, जबकि 24 फीसदी ने कहा कि वे अपना स्टार्टअप बंद कर देंगे, जबकि 5 फीसदी ने कहा कि वे अपना स्टार्टअप बेच देंगे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन