विज्ञापन
Home » Industry » StartupsZilingo Founder Ankiti Bose Got The Idea Of Startup While Shopping In Bangkok

बैंकॉक के मार्केट में कपड़े खरीदते वक्त ऑनलाइन फैशन प्लेटफॉर्म का आइडिया आया, चार साल में खड़ी कर दी 6.67 हजार करोड़ रुपए की कंपनी

अंकति बोस ने 23 साल की उम्र में दोस्त के साथ शुरू किया था जिलिंगो नाम का स्टार्टअप

1 of

नई दिल्ली
साल 2014 में अंकिति बोस वेंचर कैपिटल फर्म सिकोइया में बतौर एनालिस्ट काम कर रही थीं। उस समय 23 साल की रही अंकिति छुटिट्यां मनाने बैंकॉक गईं। वहां के चाटूचक मार्केट में कपड़ों की खरीदारी करते समय उन्हें पता चला कि यहां का कोई भी दुकानदार ऑनलाइन कपड़े नहीं बेचता है। थोड़ा और रिसर्च करने पर उन्होंने पाया कि दक्षिण-पूर्व एशिया में रेडिमेड कपड़ों के कई ऐसे व्यापारी हैं जो ऑनलाइन बिजनेस नहीं करते हैं। यहीं से उन्हें अपना ऑनलाइन फैशन प्लेटफॉर्म शुरू करने का आइडिया मिला।

 

देश लौटकर शुरू की कंपनी 


भारत लौटने पर एक पार्टी के दौरान उन्होंने अपने दोस्त ध्रुव कपूर से यह आइडिया शेयर किया। उस समय 24 साल के रहे ध्रुव सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे और गेमिंग स्टूडियो किवी में काम करते थे। दोनों ने इस आइडिया पर काम करना शुरू किया। करीब चार महीने बाद दिसंबर, 2014 में दोनों ने अपना जॉब छोड़ दिया और करीब 20 लाख रुपए की लागत से Zilingo (जिलिंगो) नाम की कंपनी शुरू कर दी। कंपनी दक्षिण-पूर्व एशिया के छोटे व्यापारियों को अपना प्रोडक्ट बेचने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराती है। 

 

यह भी पढ़ें- योगी सरकार नहीं लुभा पाई निवेशकों को, सिर्फ 2 फीसदी निवेशकों ने जताई निवेश की इच्छा

Unicorn Startup की फाउंडर बनीं


जिलिंगो ने हाल ही में फ्रेश राउंड की फंडिंग में 22.6 करोड़ डॉलर (करीब 1557 करोड़ रुपए) की जुटाने की घोषणा की है। इस फंडिंग के बाद कंपनी की कुल वैल्यू 97 करोड़ डॉलर (करीब 6.67 हजार करोड़ रुपए) हो गई है। इसके साथ ही अंकिति एशिया में 90 करोड़ डॉलर से ज्यादा वैल्यू वाली कंपनी की सबसे युवा फाउंडरों में शामिल हो गई हैं।

 

 

 

2025 तक 10 हजार करोड़ का होगा ऑनलाइन मार्केट 

अंकिति कहती हैं , ‘हमारी कंपनी के लिए आगे बहुत संभावनाएं हैं। गूगल एंड टेमासेक की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण पूर्व एशिया में 2018 में ऑनलाइन शॉपिंग का मार्केट 2300 करोड़ डॉलर (करीब 1.5 लाख करोड़ रुपए) से ज्यादा का हो गया है। 2025 तक आंकड़ा यह 10 हजार करोड़ डॉलर (करीब 6.9 लाख करोड़ रुपए) तक पहुंच जाएगा।’ 

 

 

यह भी पढ़ें- देश की पहली इंटरनेट कार जल्द होगी लॉन्च, मिलेगा 10.4 इंच का टच स्क्रीन और नए फीचर्स

तेजी से बढ़ रही अंकिति की कंपनी 


जिलिंगो ने 31 मार्च 2017 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में 18 लाख डॉलर (करीब 12 करोड़ रुपए) का ही रेवेन्यू दर्ज किया था। लेकिन, मार्च 2018 तक इसमें 12 गुना का इजाफा हो गया। अप्रैल 2018 से लेकर जनवरी 2019 तक इसमें चार गुना और बढ़ोतरी हो गई। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कंपनी किस तेजी से आगे बढ़ रही है।

 

सिर्फ 23 महिला फाउंडरों का स्टार्टअप 100 करोड़ डॉलर का 


दुनियाभर में होने वाले स्टार्टअप में महिला फाउंडर कम ही हैं। वेंचर कैपिटल से निवेश हासिल कर 100 डॉलर या इससे ज्यादा बड़े स्टार्टअप में सिर्फ 23 ऐसे हैं जिनकी फाउंडर कोई महिला हो। यह आंकड़ा पिचबुक की पिछले साल की रिपोर्ट से सामने आया था। अंकिति भी इस सूची में जल्द ही शामिल हो सकती हैं। उनकी कंपनी को इसके लिए 3 करोड़ डॉलर की और जरूरत होगी।

 

 

यह भी पढ़ें- SBI में नौकरी का सुनहरा मौका, 2000 पदों पर निकली है वेकेंसी

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन