Home » Industry » Service SectorVisiting hours of Taj mahal and rate of tickets have been changed

ताजमहल की टि‍कट और घूमने का समय बदला, जानें नए नि‍यम

अगर आप ताजमहल में मुमताज़ की कब्र देखना चाहते हैं, तो आपको अब उसके लिए दो सौ रुपए का टिकट अलग से लेना होगा।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। अगर आप ताजमहल में मुमताज़ की कब्र देखना चाहते हैं, तो आपको अब उसके लिए दो सौ रुपए का  टिकट अलग से लेना होगा। पहले ताजमहल के प्रवेश का टिकट लेकर आप मुमताज की कब्र तक जा सकते थे और उसके लिए अलग टिकट नहीं लेना होता था पर अब ताजमहल में पर्यटकों की बढ़ती भीड़ को नियंत्रित करने के लिए  सरकार ने प्रवेश की टिकट चालीस से पचास कर दी है और मुमताज़ की कब्र के पास जाने के लिए अलग टिकट लगा दिया है।  
भीड़ को कंट्रोल करने के लि‍ए फैसला 
संस्कृति मंत्री डॉ महेश चन्द्र शर्मा ने आज यहाँ पत्रकारों को बताया कि ताजमहल देखने के लिए भीड़ प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं। रोजाना करीब चालीस-पचास  हज़ार पर्यटक आते हैं, लेकिन अवकाश के दिन यह संख्या एक लाख से सवा लाख हो जाती है। इसलिए भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हमने यह कदम उठाया है।

उन्होंने कहा कि टिकट की राशि में वृद्धि करने का मकसद सरकार को धनोपार्जन कराना नहीं, बल्कि बढ़ती भीड़ को रोकना है, क्योंकि हमें इसे भविष्य के लिए भी संरक्षित करना है। उन्होंने कहा कि अब ताजमहल देखने की  अवधि भी तय कर दी  गयी है, क्योंकि पहले लोग टिकट लेकर दिन भर ताजमहल के अन्दर घूमते रहते थे इस से भीड़ बढ़ जाती थी। आगे पढ़ें इससे ज्‍यादा नहीं रुक पाएंगे 

तीन घंटे से ज्‍यादा नहीं रुक पाएंगे
डॉ शर्मा ने कहा कि मेट्रो टिकट की तरह ताजमहल के टिकट होंगे, जिसमें अगर आपकी अवधि तीन घंटे से अधिक हो गयी, तो  गेट नहीं खुलेंगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पर्यावरण एवं इंजीनीरिंग शोध संस्‍थान ने पिछले दिनों अपनी रिपोर्ट में कहा था कि ताजमल के बेहतर संरक्षण के लिए भीड़ को नियंत्रित करना जरूरी है। हमने उस रिपोर्ट के आधार पर यह फैसला किया है, लेकिन विदेशी पर्यटकों के लिए 1250 रुपये ही टिकट का शुल्क रहेगा। आगे पढ़ें अब नहीं चलेगा 'लपका' 

अब नहीं  चलेगी लपको संस्‍कृति‍ 

उन्होंने कहा कि जब कोई पर्यटक विशेषकर विदेशी पर्यटक और उनमें खासकर महिला पर्यटक ताजमहल देखने आती हैं, तो गाइड, रिक्शे और टेम्पो वाले तथा दुकान वाले उनके पीछे 'लपक' लेते हैं। इस लपको संस्कृति को ख़त्म करने के लिए हमने कड़ी कारवाई करने का निर्णय लिया है, क्योंकि यह राष्ट्रीय शर्म का विषय है। कोई मेहमान हमारे देश आता है, तो लोग उसके साथ इस तरह पेश आते हैं, तो इससे भारत की बदनामी भी होती है। इसलिए सभी पर्यटक स्थलों पर इस लपको संस्कृति को खत्म किया जायेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट