Home » Industry » Service SectorIndia's Aug services sector activity falls from 21-month peak: PMI

बिजनेस ऑर्डर में कमी से सर्विसेस PMI को झटका, 21 महीने के उच्चतम स्तर से फिसला

नए बिजनेस ऑर्डर्स में कमी के चलते अगस्त में भारत के सर्विसेस सेक्टर में एक्टिविटी में गिरावट दर्ज की गई थी।

India's Aug services sector activity falls from 21-month peak: PMI

 

नई दिल्ली. नए बिजनेस ऑर्डर्स में कमी के चलते अगस्त में भारत के सर्विसेस सेक्टर में एक्टिविटी में गिरावट दर्ज की गई थी, जबकि जुलाई में यह 21 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थीं। एक मंथली सर्वे के मुताबिक, कंपनियों ने इनपुट कॉस्ट की महंगाई के चलते नियुक्तियों के स्तर में कमी कर दी है। निक्केई इंडिया सर्विसेस बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स बीते तीन महीनों में नए वर्क की सबसे कमजोर ग्रोथ के चलते जुलाई के 54.2 के स्तर से गिरकर 51.5 के स्तर पर आ गया।

 

 

नए बिजनेस और इम्प्लॉयमेंट में सबसे सुस्त ग्रोथ

पीएमआई के 50 के स्तर से ऊपर रहने का मतलब विस्तार होता है, जबकि उससे नीचे को सुस्ती माना जाता है। रिपोर्ट की एक ऑथर आईएचएस मार्किट की आश्ना डोढिया ने कहा, ‘अगस्त के डाटा से संकेत मिलते हैं कि भारत की सर्विस इकोनॉमी की ग्रोथ जुलाई की तुलना में सुस्त हुई है। यह मई और नवंबर, 2017 के बाद क्रमश: नए बिजनेस और इम्प्लॉयमेंट में सबसे सुस्त बढ़ोत्तरी रही है।’

 

 

मैन्युफैक्चरिंग और सर्विसेस दोनों में सुस्ती

इसके अलावा निक्केई इंडिया कंपोजिट पीएमआई आउटपुट इंडेक्स अगस्त में गिरकर 51.90 पर आ गया, जो जुलाई में 21 महीने के हाई 54.1 पर था। इसकी वजह मैन्युफैक्चरिंग और सर्विसेस सेक्टर दोनों की कमजोर ग्रोथ रही।

 

 

बिजनेस कॉन्फिडेंस मई के बाद के उच्चतम स्तर पर

प्राइस की बाद करें तो इनपुट कॉस्ट की महंगाई नौ महीने में सबसे ज्यादा रही। पॉजिटिव बात यह रही कि बिजनेस कॉन्फिडेंस मई के बाद के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट