विज्ञापन
Home » Industry » Service SectorTwo Key fact-checkers refuse to work with Facebook

Facebook को तगड़ा झटका, फेक न्यूज जांचने वाली दो कंपनियों ने साथ छोड़ा

दिसंबर 2018 में समाप्त हुआ समझौता

Two Key fact-checkers refuse to work with Facebook

नई दिल्ली। दुनियाभर में फेक न्यूज पर रोक के लिए अभियान चला रही सोशल साइट Facebook को तगड़ा झटका लगा है। Facebook पर पोस्ट होने वाले कंटेंट की जांच करने वाली दो कंपनियों ने इसका साथ छोड़ दिया है। इन दोनों कंपनियों के इस कदम को फेक न्यूज के खिलाफ चल रहे Facebook के अभियान को झटका माना जा रहा है।

 

दिसंबर 2018 में बंद की सेवाएं
बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, Facebook ने अपनी प्लेटफॉर्म पर पोस्ट होने वाले कंटेंट की जांच के लिए एसोसिएटिड प्रेस और Snopes के साथ समझौता किया था। इसके लिए फेसबुक
दोनों कंपनियों को भुगतान करती थी। अब इन दोनों कंपनियों ने पुष्ट कर दिया है कि उसने Facebook का साथ छोड़ दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन दोनों कंपनियों के साथ फेसबुक का समझौता दिसंबर 2018 में समाप्त हो गया है और इन कंपनियों ने इस समझौते को रिन्यू नहीं कराया है। 

 

आगे भी जारी रहेगा अभियान
उधर फेसबुक ने कहा है कि वह फेक न्यूज को रोकने के लिए प्रतिबद्ध है और हमारा यह अभियान आगे भी जारी रहेगा। फेसबुक प्रवक्ता का कहना है कि फेक न्यूज को रोकने के लिए हम कई प्रकार के तरीके अपना रहे हैं। इसमें थर्ड पार्टी फैक्ट चैकर का मुख्य रोल है। 

 

इन कंपनियों के साथ काम कर रही है Facebook
फेक न्यूज को रोकने के लिए Facebook अमेरिका में Snopes के अलावा FactCheck.org और PolitiFact के साथ काम करती है। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन