विज्ञापन
Home » Industry » Service SectorTrain 18 trail run

ट्रेन 18 बनी भारत की सबसे तेज रफ्तार ट्रेन, कई खूबियों से है ये लैस

शताब्दी की जगह लेगी यह ट्रेन

1 of

चेन्नई. भारत की पहली इंजनलेस रेलगाड़ी 'ट्रेन 18' का रविवार को ट्रायल रन हुआ। इस दौरान ट्रेन ने 180 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार हासिल की और इस तरह यह राजधानी और शताब्दी जैसी ट्रेन को पीछे छोड़ते हुए अब तक की सबसे तेज रफ्तार की ट्रेन बन गई। जहां शताब्दी और राजधानी की अधिकतम औसत रफ्तार 130 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार है। वहीं गतिमान एक्सप्रेस के नाम 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार दर्ज है

 

ट्रेन 18 लेगी शताब्दी की जगह

देश की सबसे तेज गति वाली ट्रेन 18 को बनाने में 100 करोड़ रुपए का खर्च आया है। ट्रेन ने कोटा-सवाई माधोपुर सेक्शन में 180 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार हासिल की। ट्रेन का ज्यादातर ट्रायल रन पूरा हो चुका है। ट्रेन को बनाने वाली इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (ICF) के जनरल मैनेजर एस मुनी ने कहा कि ट्रेन की टेक्नीकल दिक्कतें दूर कर ली गई हैं। जनवरी 2019 में इसे आधिकारिक रुप से पटरी पर उतारा जाएगा। यह ट्रेन मौजूदा शताब्दी की जगह लेगी। उन्होंने कहा कि ट्रेन अधिकतम 200 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है। 

 

आगे पढ़ें-

 

कोच में दिखेेंगे आधुनिक फीचर
इस ट्रेन में स्लीपर कोच भी लगाए जाएंगे। आईसीएफ इस चालू वित्त वर्ष में एक और टी18 ट्रेन उतारेगी। बाकी ट्रेनों को अगले चालू वित्त वर्ष में लाया जाएगा। ट्रेन में 16 कोच होंगे। इसमें शताब्दी के बराबर ही पैसेंजर ट्रैवल कर सकेंगे। इस ट्रेन से 15 से 20 फीसदी ऊर्जा की बचत हो सकेगी। 

इसमें एडवांस रिजनरेटिव ब्रेकिंग सिस्टम होगा। यह पूरी तरह से एसी ट्रेन होगी।

 

आगे पढ़ें- क्रू से बाचतीच करने का होगा ऑप्शन

 

क्रू से बाचतीच करने का होगा ऑप्शन

ट्रेन में ऑटोमेटिक डोर होंगे। ट्रेन में वाई-फाई एडं इंफोटेनमेंट, जीपीएस बेस्ड पैसेंजर इंफार्मेशन सिस्टम, बॉयो वैक्यूम सिस्टम के साथ मॉड्यूलर टॉयलेट होगा। पैसेंजर के लिए एक टॉक प्वाइंट होगा। जिसके जरिए क्रू से आपात स्थिति में बातचीत की जा सकेगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन