Advertisement
Home » इंडस्ट्री » सर्विस सेक्टरTourism Ministry classified new guidelines for Incredible India Bed and Breakfast Establishments

सैलानियों को अपने घरों में ठहरा कर आप भी कर सकते हैं कमाई, यहां करें आवेदन

पर्यटन मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइन, कोई भी करा सकता है रजिस्ट्रेशन

1 of

नई दिल्ली। देश में पर्यटन को बढ़ावा देने और लोगों को घरों पर ही कमाई का मौका देने के उद्देश्य से केंद्र की मोदी सरकार ने इन्क्रीडेबल इंडिया बेड एंड ब्रेकफास्ट स्कीम के तहत नई गाइडलाइन्स जारी कर दी हैं। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन्स के अनुसार, देश का कोई भी इस स्कीम के तहत व्यक्ति अपने घर में सैलानियों और पर्यटकों को ठहराकर कमाई कर सकता है। हालांकि, इसके लिए आपको स्थानीय पर्यटन कार्यालय में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। सरकार ने सैलानियों को दी जाने वाली सुविधाएं भी तय कर दी हैं। 

 

कौन उठा सकता है लाभ
पर्यटन मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन्स के अनुसार, बेड एंड ब्रेकफास्ट स्कीम के तहत कोई भी व्यक्ति अपने मकान का रजिस्ट्रेशन करा सकता है। रजिस्ट्रेशन कराने के लिए मकान में किराए पर देने के लिए कम से कम 1 और ज्यादा से ज्यादा 12 कमरे होने चाहिए। इस स्कीम को सिल्वर और गोल्ड दो वर्गों में बांटा गया है जिसके अनुसार सैलानियों को दी जाने वाली सुविधाएं और उनका किराया निर्धारित किया गया है। इसके अलावा जिन घरों की देखभाल मालिक के बजाए यदि उनका कोई एजेंट या केयरटेकर करता है तो वह भी इस स्कीम के तहत रजिस्ट्रेशन करा सकता है। 

Advertisement

दो साल के लिए होगा रजिस्ट्रेशन


इस स्कीम के तहत होने वाला रजिस्ट्रेशन दो साल की अवधि के लिए होगा। इसके अलावा पहले से रजिस्टर्ड मकान मालिक रजिस्ट्रेशन समाप्त होने के तीन महीने पहले भी नए रजिस्ट्रेशन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। नए मानकों के अनुसार, सिल्वर वर्ग के लिए 3000 रुपए और गोल्ड वर्ग के 5000 रुपए की रजिस्ट्रेशन फीस देनी होगी। नए नियमों के अनुसार, मकान मालिकों को अपने वर्ग के अनुसार सैलानियों को सुविधाएं देनी होंगी। किसी भी विवाद से बचने के लिए नई गाइडलाइन्स में सैलानियों को दी जाने वाली सभी सुविधाओं के लिए फीस की दर तय कर दी गई है। 

इन शर्तों का करना होगा पालन


- नई गाइडलाइन्स के अनुसार किराए पर दिया जाने वाला कमरा मैदानी क्षेत्र में 120 वर्गफुट और पहाड़ी क्षेत्र में 100 वर्गफुट से कम नहीं होना चाहिए।
- सभी कमरों में शुद्ध हवा और रोशनी के लिए पर्याप्त खिड़कियां होनी चाहिए।
- सैलानियों के लिए पार्किंग की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए।
- प्रत्येक कमरे के साथ अटैच बाथरूम होना चाहिए।
- 24 घंटे गर्म और ठंडे पानी की आपूर्ति की व्यवस्था होनी चाहिए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss