विज्ञापन
Home » Industry » Service SectorRail ticket price hike

लोकसभा चुनाव बाद लग सकता है महंगे रेल किराए का झटका, इस योजना पर काम कर रही सरकार

सब्सिडी के कारण बढ़ रहे वित्तीय दबाव से जूझ रहा है रेलवे

Rail ticket price hike

Rail ticket price hike: केंद्र सरकार ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर रेल किराए में बढ़ोत्तरी की घोषणा नहीं किया है। लेकिन चुनाव बाद महंगे रेल किराए का झटका लग सकता है।

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर रेल किराए में बढ़ोत्तरी की घोषणा नहीं किया है। लेकिन चुनाव बाद महंगे रेल किराए का झटका लग सकता है। दरअसल रेलवे यात्री किराए मॉडल में बदलाव की योजना बना रहा है। रेलवे के सूत्रों के मुताबिक रेलवे कुछ रूट पर भारी घाटे में है। ऐसे में मंत्रलाय किराए में बढ़ोत्तरी की योजना पर काम कर रही है। 

 

कुछ खास रेल रूट पर बढ़ सकता है किराया 

रेल किराए में बढ़ोत्तरी कुछ खास रेल रुट पर हो सकती है। यह योजना सभी ट्रेन पर लागू होगी। नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनैंस ऐंड पॉलिसी (एनआईपीएफपी) की हालिया अध्ययन से मालूम चला है कि सब्सिडी के कारण बढ़ रहे वित्तीय दबाव से उबरने के लिए रेलवे को यात्री किराये में इजाफा करना चाहिए। सालाना आधार पर रेलवे सामाजिक क्षेत्र में सब्सिडी के तौर पर 35,000 से 40,000 करोड़ रुपये खर्च करती है।

 

रेलवे की बढ़ी आय 

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने साल 2019-20 में रेल यात्रा से रेलवे की आय बढ़ने की बात कही थी। उनके मुताबिक किराया 8 फीसदी बढ़कर 56,000 करोड़ रुपए पहुंच गया है। एक अनुमान के मुताबिक रेलवे प्रति 10 किलोमीटर के लिए करीब 36 पैसे किराया वसूलती है, जबकि उसका खर्च 73 पैसे आता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन