Home » Industry » Service SectorLease of qutub minar

Yatra के हवाले होगी कुतुब मीनार, दी जाएगी 5 साल की लीज

साफ हवा-पानी और फ्री वाई-फाई कनेक्टिविटी के लिए हुआ समझौता

Lease of qutub minar

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ऐतिहासिक इमारत कुतुब मीनार को एक प्राइवेट ट्रैवल एजेंसी को गोद देने की तैयारी में है। सरकार 'एडॉप्ट ए हेरिटेज स्कीम' के तहत कुतुब मीनार को गोद देगी। इसके लेकर ऑनलाइन ट्रैवल एजेंसी यात्रा डॉट कॉम (Yatra.com) के साथ पांच साल का करार किया जाएगा। ऐसी खबरें है कि Yatra.com और पर्यटन मंत्रालय के बीच समझौता हो चुका है। इसे संस्कृति मंत्रालय की मंजूरी का इंतजार है। हालांकि कुतुब मीनार को गोद देने की रकम के बारे में अभी कोई खुलासा नहीं हुआ है। 

 

साफ हवा और पानी पहुंचाने का करार 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक Yatra.com समझौते के तहत कुतुब मीनार क्षेत्र में साफ पानी, फ्री वाई-फाई कनेक्टिविटी मुहैया कराएगी। साथ ही दिव्यांग जनों के लिए व्हील चेयर और ऑडियो गाइड की सुविधाएं उपलब्ध कराएगी। हालांकि Yatra.com को साउंड एंड लाइट शो करने की इजाजत नहीं होगी, क्योंकि समझौते में ऐतिहासिक इमारत में किसी व्यावसायिक गतिविधि न किए जाने का करार है।

 

तीन अन्य इमारतों को दिया जाएगा गोद 

यात्रा डॉट कॉम की ओर से तीन अन्य ऐतिहासिक इमारतों को गोद लिया जाएगा। इसमें कर्नाटक का हजारा राम मंदिर, महाराष्ट्र का अजंता एलोरा और जम्मू कश्मीर का लेह पैलेस शामिल है। बता दें कि इसी योजना के तहत डालमिया समूह ने दिल्ली के लाल किला और आंध्र प्रदेश के कडपा जिले के गंडीकोटा किले को गोद लिया है। 

 

क्या है एडॉप्‍ट ए हेरिटेज' योजना 
केंद्र सरकार ने एडॉप्ट ए हेरिटेज' योजना पिछले साल सितंबर में शुरू की थी। योजना के तहत ऐतिहासिक महत्व की इमारतों के रखरखाव की जिम्मेदारी प्राइवेट कंपनियों को दी जाती है, जो इन इमारतों में बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट