विज्ञापन
Home » Industry » Service SectorMumbai Dance Bar had business of 2 lakh crore rupee per year

2 लाख करोड़ का था मुंबई Dance Bar का कारोबार, पुलिस और नेताओं की मोटी कमाई का भी रहा है जरिया

सुप्रीम कोर्ट ने फिर दी संचालन की अनुमति, 75 हजार बार बालाओं को मिल रहा था रोजगार

1 of

नई दिल्ली। मुंबई में करीब 15 सालों से बंद पड़े डांस बार के गुलजार होने का रास्ता साफ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ डांस बार के संचालन की अनुमति दे दी है। कोर्ट ने मुंबई में डांस बार के लिए लाइसेंस लेने वाले कानून के कई प्रावधान को खारिज कर दिया है। सरकार डांस बार पर प्रतिबंध को बरकरार रखना चाहती है लेकिन डांस बार चलाने वाले और डांस करने वाली बार बालाओं ने इस फैसले पर खुशी जताई है। दरअसल डांस बार का कारोबार इतना बड़ा है कि कोई भी इस प्रतिबंध नहीं चाहता है। आइए आपको बताते हैं कि मुंबई डांस बार का कितने करोड़ का कारोबार है और इससे किस-किस को फायदा होता है।

 

इतने लाख करोड़ का था कारोबार
एक मीडिया रिपोर्ट् में दावा किया गया है कि बंदी से पहले मुंबई डांस बार में सालाना 2 लाख करोड़ रुपए का कारोबार होता था। इसमें वैध और अवैध दोनों प्रकार की कमाई शामिल थी। दावा किया जाता है कि इस कुल कमाई में डांस बार में आड़ में होने वाले देह व्यापार का बड़ा हिस्सा शामिल था। यहां के जानकारों के अनुसार, 2005 में बंदी के समय ही मुंबई का डांस बार का कारोबार करीब 42 हजार करोड़ रुपए का था। 

ये थी डांस बार की स्थिति


एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 2005 में बंदी के समय करीब 800 डांस बार पंजीकृत थे, जबकि 20 से 22 हजार डांस बार अवैध रूप से चल रहे थे। इन डांस बार में उस समय करीब 75 हजार बार बालाएं काम कर रही थी। इसमें से 35 हजार अब भी वेटर या गायिका का काम कर रही हैं जबकि करीब 40 हजार दूसरे काम धंधों में लग गई हैं। रिपोर्ट के अनुसार, डांस बार की आड़ में देह व्यापार का धंधा भी चलता था, जिसमें सालाना करीब 94 हजार करोड़ रुपए का लेन-देन होता था।

पुलिस-राजनेता भी करते थे मोटी कमाई


मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मुंबई के डांस बार के कारोबार से पुलिस, राजनेता और उद्योगपति भी जुड़े हुए थे। विवेक अग्रवाल की पुस्तक 'मुंबई बार' के अनुसार, बंदी के समय मुंबई पुलिस को डांस बार से 15-20 हजार करोड़ रुपए हफ्ता के तौर पर जाते थे। कई अन्य रिपोर्ट में दावा किया जाता है कि मुंबई के एक प्रमुख राजनीति दल के नेताओं की आर्थिक रीढ़ तोड़ने के लिए ही तत्कालीन महाराष्ट्र सरकार ने डांस बार पर प्रतिबंध लगाया था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन