Advertisement
Home » Industry » Service SectorKhurja Super Thermal Power Plant in dispute

यूपी के प्रदूषण की समस्या को बढ़ा सकता है खुर्जा थर्मल पॉवर प्लांट, 12 हजार करोड़ रुपए है लागत

वित्त मंत्रालय ने खुर्जा कोयला पावर प्रोजेक्ट में निवेश के लिए हरी झंडी दे दी है।

1 of

नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर से सटे उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर में खुर्जा सुपर पावर प्लांट की नींव जल्द रखी जाएगी। इसके 2022 में चालू होने की संभावना है। हालांकि इसका निर्माण शुरु होने से पहले ही ज्यादा लागत और प्रदूषण के मुद्दे पर सवाल उठने लगे हैं। ग्रीन पीस की रिसर्च के मुताबिक खुर्जा पावर प्लांट जिस लागत में बनाया जा रहा है। उससे कम लागत में सोलर प्लांट लगया जा सकता है। इससे सस्ती बिजली उत्पन्न की जा सकती है। साथ ही यह स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद रहेगा। खुर्जा का प्रस्तावित सुपर थर्मल पावर प्लांट 1,320 मेगावाट का है जो उत्तर प्रदेश सरकार और टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड का सयुंक्त उपक्रम है। 

 

 

कोलया पावर प्लांट की मंजूरी दुर्भाग्यपूर्ण 

ग्रीनपीस इंडिया के विश्लेषण के मुताबिक दिल्ली-एनसीआर से सटे उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर में प्रस्तावित खुर्जा सुपर पावर प्लांट लोगों के स्वास्थ्य के साथ-साथ आर्थिक रुप से भी जोखिम भरा है। नया कोयला थर्मल पावर प्लांट लगाने से ज्यादा सस्ता और स्वच्छ सोलर, वायु जैसे अक्षय ऊर्जा के विकल्प मौजूद हैं, जो पहले से ज्यादा आसानी से और सस्ते में उपलब्ध हैं। अक्षय ऊर्जा निवेशकों के लिये भी निवेश के लिहाज से ज्यादा सुरक्षित हैं। ग्रीनपीस इंडिया की कैंपेनर पुजारिनी सेन कहती हैं, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि क्षेत्र में खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण और अक्षय ऊर्जा की अर्थव्यवस्था में बदलाव के बावजूद वित्त मंत्रालय ने सिद्धांतः खुर्जा कोयला पावर प्रोजेक्ट में निवेश के लिये हरी झंडी दे दी है। उन्होंने कहा कि सौर संयंत्र बिजली उत्पादन आदि में थर्मल पावर प्लांट से ज्यादा फायदेमंद साबित होगा और इससे प्रदूषण से भी बचा जा सकता है।

 

आगे पढ़ें-सोलर प्लांट लगन से जनरेट होगी 8 हजार नौकरियां

सोलर प्लांट लगन से जनरेट होगी 8 हजार नौकरियां

इस थर्मल पावर प्लांट के लिये आवंटित 1200 एकड़ में ही 240 मेगावाट सोलर बिजली पैदा किया जा सकता है। इतना ही नहीं खुर्जा पावर प्लांट को 3,378 एकड़ वन भूमि की भी खनन के लिये आवश्यकता पड़ेगी, जो सिंगरौली में स्थित है। (2) (इसमें 9 लाख पेड़ों का काटा जाना भी शामिल है)। इतनी ही जमीन (खनन के लिये 3378 एकड़) में बिना किसी जंगल को काटे 675 मेगावाट उत्पादन करने वाला सोलर परियोजना लगाया जा सकती है। मतलब खुर्जा जितनी बड़ी परियोजना से 915 मेगावाट बिजली उत्पादन किया जा सकता है। इस तरह के सोलर परियोजना से 8,341 नौकरियां बनायी जा सकती हैं और इस परियोजना की कुल लागत अनुमानित 3,204 करोड़ (3.5 करोड़ प्रति मेगावाट) होगा, जबकि थर्मल पावर प्लांट के लिये 12,676 करोड़ निवेश की जरुरत होगी। यह सालाना 1.2 मिलियन टन कार्बन डॉक्साइड को ऑफसेट भी करेगी।

 

आगे पढ़ें-थर्मल पावर प्लांट वायु प्रदूषण की प्रमुख वजहों में से है एक  

 

 

थर्मल पावर प्लांट वायु प्रदूषण की प्रमुख वजहों में से है एक  

उत्तर प्रदेश में स्वच्छ वायु और ऊर्जा के मुद्दे पर काम कर रहे क्लाइमेट एजेंडा के रवि शेखर कहते हैं, “उत्तर प्रदेश के लोगों को सस्ती बिजली और स्वच्छ हवा चाहिए, खुर्जा थर्मल पावर प्लांट से उनको दोनों में से कुछ भी नहीं मिलेगा। हम वित्त मंत्रालय और टीएचडीसी से मांग करते हैं कि इस परियोजना पर पुनर्विचार करे और क्षेत्र की आवश्यकता सस्ती बिजली और स्वच्छ हवा की जरुरत को ध्यान में रखते हुए कार्य करे।थर्मल पावर प्लांट से निकलने वाला उत्सर्जन वायु प्रदूषण की प्रमुख वजहों में से एक है। इसकी वजह से हर साल भारत में एक लाख मौत होती है।

 

आगे पढ़ें-वायु प्रदूषण की वजह से 2017 में हुई 2.6 लाख मौतें 

 

 

वायु प्रदूषण की वजह से 2017 में हुई 2.6 लाख मौतें 

हाल के ही अध्ययन में सामने आया है कि भारत में दुनिया के तीन सबसे प्रमुख नाइट्रोजन डॉयक्साइड के हॉटस्पॉट हैं, इनमें से दिल्ली-एनसीआर और सिंगरौली-सोनभद्र (मध्यप्रदेश-उत्तरप्रदेश) भी हैं जो इस प्रस्तावित खुर्जा पावर प्लांट और उसके लिये प्रस्तावित खनन क्षेत्र से सटे हुए हैं। खुर्जा उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर जिले में स्थित है जो भारत के सबसे प्रदूषित क्षेत्रों में से एक है। अध्ययन बताते हैं कि उत्तर प्रदेश में 2017 में वायु प्रदूषण की वजह से 2.6 लाख लोगों की मौत हुई हैं वहीं भारत भर में यह संख्या 12.4 लाख है। इससे साफ है कि यह प्रस्तावित खुर्जा थर्मल पावर प्लांट बुलंदशहर और आसपास के क्षेत्रों में रह रहे लोगों के स्वास्थ्य के लिये खतरा है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement