Advertisement
Home » इंडस्ट्री » सर्विस सेक्टरDrones and unmanned aircraft system policy

जल्‍द जारी होगी ड्रोन पॉलिसी, एविएशन सेक्‍टर में ग्रोथ को रफ्तार देने की क्षमता: सिन्‍हा

केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्‍हा ने कहा है कि सिविल एविएशन मिनिस्‍ट्री ड्रोन पॉलिसी बनाने के अंतिम चरण में है।

1 of

मुंबई. केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्‍हा ने कहा है कि सिविल एविएशन मिनिस्‍ट्री ड्रोन पॉलिसी बनाने के अंतिम चरण में है। उम्‍मीद है कि इसे जल्‍द जारी कर दिया जाएगा। एविएशन मिनिस्‍ट्री पिछले साल अनमैन्‍ड एयरक्रॉफ्ट सिस्‍टम के लिए ड्रॉफ्ट रूल लेकर आई थी, जिस पर पब्लिक से भी कमेंट मांगे गए थे। इंडस्‍ट्री बॉडी सीआईआई की ओर से सर्विसेज पर आयोजित ग्‍लोबल एग्‍जीबिशन में सिन्‍हा ने यह जानकारी दी। इसके साथ ही सिन्‍हा ने यह भी कहा कि एविएशन सेक्‍टर में आर्थिक विकास को रफ्तार देने की काफी क्षमता है। 

नागरिक विमानन राज्‍य मंत्री जयंत सिन्‍हा ने कहा कि सिक्‍युरिटी और ग्‍लोबल मानकों से जुड़े कुछ मसलों पर सभी स्‍टेकहोल्‍डर्स के साथ विस्‍तार से चर्चा की गई। ड्रोन पॉलिसी से हमारा काम आखिरी चरण में है। सिक्‍युरिटी और ग्‍लोबल मानकों को लेकर कुछ जटिल मसले थे जिनका समाधान निकालने की जरूरत  थी। अब हम इस पर बातचीत के अंतिम दौर में है। इसलिए, हम उम्‍मीद करते हैं कि जल्‍द ही फाइनल ड्रोन पॉलिसी सामने आ जाएगी। 

Advertisement


अभी एयरक्रॉफ्ट रूल में ड्रोन नहीं है कवर 
फिलहाल, एयरक्रॉफ्ट रूल्‍स ड्रोन के इस्‍तेमाल को कवर नहीं करता है। साथ ही इसकी खरीद-बिक्री भी इस नियम के तहत नहीं है। एविएशन रेग्‍युलेटर डीजीसीए ने अक्‍टूबर 2014 में आम लोगों द्वारा ड्रोन और अनमैन्‍ड एयरक्रॉफ्ट सिस्‍टम के इस्‍तेमाल पर पाबंदी लगा दी थी। 

 

 

ड्रॉफ्ट रूल में क्‍या है? 
डीजीसीए की ओर से तैयार किए गए ड्रॉफ्ट रूल्‍स के अनुसार, ड्रोन के लिए यूनिक आईडेंटिफिकेशन नंबर की जरूरी होगा। नैनो ड्रोन यानी जिनका वजन 250 ग्राम से कम है उसे वन टाइम अप्रूवल और यूनिक नंबर लेने से छूट होगी। ड्रोन को पांच कैटेगरी में रखा गया है। जिनका 250 ग्राम से कम वजन है उसे नैनो ड्रोन की कैटेगरी में रखा गया। 250 ग्राम से ज्‍यादा और 2 किलो तक के ड्रोन माइक्रो और 2 किलो से ज्‍यादा और 25 किलो तक के ड्रोन मिनी कैटेगरी में आएंगे। वहीं, 150 किलो तक के ड्रोन स्‍माल और इससे अधिक वजह के ड्रोन लॉर्ज कैटेगरी में रखे गए हैं। 

Advertisement

 

 

एविएशन सेक्‍टर में इकोनॉमिक ग्रोथ को बढ़ाने की क्षमता 
एविएशन सेक्‍टर की संभावनाओं के बारे में सिन्‍हा ने कहा कि इस सेक्‍टर में देश की आर्थिक वृद्धि को रफ्तार देने की काफी क्षमता है। सरकार कई क्षेत्रों में एयरपोर्ट क्षमता बढ़ाने, रेग्‍युलेटरी इंस्‍टीट्यूशंस को मजबूत करने और इस सेक्‍टर में स्किल डेवलपमेंट पर काम कर रही है। एविएशन मिनिस्‍ट्री का लक्ष्‍य 15-20 साल में पैसेंजर ट्रिप एक अरब सालाना करना है, जोकि मौजूदा 20 करोड़ से पांच गुना अधिक है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement