Home » Industry » Service SectorGovt does not want Air India to go Kingfisher Airlines way: Raju

सरकार नहीं चाहती कि एयर इंडिया का हाल किंगफिशर जैसा हो: केंद्रीय मंत्री

सरकार नहीं चाहती है कि एयर इंडिया का हाल विजय माल्या की क्रिगफिशयर एयरलाइंस की तरह हो।

1 of

नई दिल्ली। सरकार नहीं चाहती है कि एयर इंडिया का हाल विजय माल्या की क्रिगफिशयर एयरलाइंस की तरह हो। सरकार एयर इंडिया को किंगफिशयर एयरलाइंस की तरह नहीं बनने देगी। सिविल एविएशन मिनिस्टर गजपति राजू ने ये बात कही है। उन्होंने कहा कि एयर इंडिया की सर्विस जारी रहेगी। बता दें कि एयर इंडिया पर कर्ज लगातार बढ़ रहा है। 

 

 

बता दें कि एयर इंडिया पर अभी 52 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज है। कंपनी 2012 में यूपीए सरकार द्वारा दिए गए 30 हजार करोड़ रुपए के बेलआउट पैकेज पर सर्वाइव कर रही है। राजू ने कहा कि सरकार नहीं चाहती है कि एयर इंडिया के किसी कर्मचारी की नौकरी जाए। उन्होंने कहा कि जितने भी कर्मचारी अभी काम कर रहे हैं, वे आगे भी करते रहेंगे। 

 

डिसइन्वेस्टमेंट प्रॉसेस शुरू हो चुका है
राजू ने सदन में बताया कि एयर इंडिया के डिसइन्वेस्टमेंट की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। उन्होंने बताया कि फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली के नेतृत्व में एक मंत्री स्तर की समिति एयर इंडिया के डिसइन्वेस्टमेंट पर काम कर रही है और कोई भी सांसद कोई सुझाव देना चाहे तो इस समिति को दे सकता है। बता दें कि टैक्सपेयर्स के पैसे पर चल रही एयर इंडिया को लेकर नीति आयोग पूरी तरह से निजीकरण का सुझाव दे चुका है। 


बंद हो चुकी है किंगफिशयर एयरलाइंस 
किंगफिशयर एयरलाइंस शराब कारोबारी विजय माल्या द्वारा 2003 में शुरू की गई थी। ऑपरेंशंस को लेकर कंपनी रेग्युलेटर्स के कंसर्न को पूरा नहीं कर सकी। जिसकी वजह से एयर कैरियर को डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन द्वारा सस्पेंड कर दिया गया। वहीं, किंगफिशयर एयरलाइंस कई बैंकों को 9000 करोड़ रुपए डिफॉल्ट भी कर चुकी है। जिसके बाद माल्या देश छोड़कर ब्रिटेन में रह रहे हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट