बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Service Sectorसरकार ला रही 10 सर्विसेज की महंगाई परखने का नया इंडेक्‍स, जून से शुरू होगा PPI का ट्रायल

सरकार ला रही 10 सर्विसेज की महंगाई परखने का नया इंडेक्‍स, जून से शुरू होगा PPI का ट्रायल

सरकार महंगाई मापने का एक और इंडेक्‍स पीपीआई (प्रोड्यूसर्स प्राइस इंडेक्‍स) लेकर आ रही है।

1 of

नई दिल्‍ली. थोक और खुदरा महंगाई की तरह सरकार महंगाई मापने का एक और इंडेक्‍स पीपीआई (प्रोड्यूसर्स प्राइस इंडेक्‍स) लेकर आ रही है। टेलिकॉम और रेलवे समेत 10 सर्विसेज के लिए यह इन्‍फ्लेशन इंडेक्‍स जारी होगा। इसका ट्रायल अगले महीने जून से शुरू होगा। इस कदम से इन सर्विसेज की महंगाई ट्रैक करने में मदद मिलेगी। सरकार की तरफ से यह इंडेक्‍स प्रयोगिक तौर पर जारी होगा। 

सरकार की ओर से जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, पीपीआई में 10 सर्विसेज की महंगाई ट्रैक करने में मदद मिलेगी। इनमें पोर्ट्स, पोस्‍टल, इंश्‍योरेंस, बैंकिंग, ट्रांसपोर्टेशन और एयर ट्रैवल भी शामिल है। सर्विसेज पीपीआई अगले महीने जारी होगी। 

 

महंगाई ट्रैक करने का अभी क्‍या है तरीका? 
कीमतों में उतार- चढ़ाव की ट्रैकिंग सरकार अभी थोक महंगाई सूचकांक (WPI) और उपभोक्‍ता महंगाई सूचकांक (CPI) के आधार पर करती है। WPI के जरिए थोक बाजारों में सामानों की कीमतों में मूवमेंट जबकि सीपीआई के जरिए खुदरा स्‍तर पर वस्‍तुओं की महंगाई का आकलन किया जाता है, इनमें कुछ निश्चित सेवाएं भी शामिल हैं। 

 

क्‍यों आ रहा है PPI? 
WPI और CPI के तहत टैक्‍सेस की गणना शामिल होती है जबकि पीपीआई बिना टैक्‍स के प्रोड्यूसर्स की कॉस्‍ट बताएगा। पीपीआई प्रोड्यूसर्स की तरफ से घरेलू या एक्‍सपोर्ट मार्केट में सामान या सर्विसेज की बिक्री से मिलने वाली कीमत में औसत बदलाव को मापता है। जैसेकि, रेलवे में कीमतों में उतार-चढ़ाव फ्रेट टैरिफ और यात्री किराने के लिए ट्रैक किया जाएगा। दूसरी ओर, बैंकिंग इंडेक्‍स के तहत सीधे सर्विसेज और फीस शामिल होंगे। सर्विस पीपीआई के तहत वे सेक्‍टर शामिल होंगे जिनका देश की जीडीपी में करीब 60 फीसदी योगदान है। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट