विज्ञापन
Home » Industry » Service Sectorhow to tackle salary questions in interview

मनचाही सैलरी पर चाहते हैं जॉब, तो ये 4 प्वाइंट्स करेंगे मदद

फोर्ब्‍स रिपोर्ट के फॉर्मूले जॉब इंटरव्यू में सैलरी के मुद्दे को आसानी से हैंडल करने में मदद करेंगे।

1 of

नई दिल्ली. जॉब इंटरव्यू में कंडीडेट को कई तरह के सवालों को फेस करना पड़ता है। इसमें से हर एक स्टेप क्लीयर होने के बाद ही सैलरी के मुद्दे पर बात अटक सकती है। ऐसे में 
जब इंप्‍लॉयर यह पूछता है कि सैलरी को लेकर आपकी क्‍या रिक्‍वायरमेंट है तो इंटरव्‍यू देने वाला एक पल के लिए ही सही लेकिन सोचने लगता है। ऐसे में जरूरी है कि आप इंटरव्‍यू के दौरान सैलरी पर डिस्‍कशन को अच्‍छे से हैंडल करें। 

फोर्ब्‍स की एक रिपोर्ट में ऐसे ही 4 फॉर्मूलों का जिक्र है, जो जॉब इंटरव्यू के दौरान सैलरी का मुद्दा आसानी से हैंडल करने में मदद करते हैं. आइए आपको बताते हैं क्‍या हैं वे 4 फॉर्मूले-

1. घर से करके जाएं रिसर्च

आप जिस जॉब के लिए अप्‍लाई कर रहे हैं उसके लिए सैलरी को लेकर क्‍या उम्‍मीद है या करनी चाहिए, इस बारे में घर से ही तैयारी करके जाएं. जिस जॉब के लिए अप्‍लाई किया है, उसके लिए इंडस्‍ट्री में कितनी सैलरी ट्रेंड में है, ये रिसर्च करना जरूरी है. चाहें तो कुछ ऐसी वेबसाइट्स की मदद ले सकते हैं, जहां पर विभिन्‍न इंडस्‍ट्रीज, यहां तक कि चुनिंदा कंपनियों में किस पोजिशन पर क्‍या सैलरी मिलती है, इसकी जानकारी मौजूद रहती है. उदाहरण के लिए ग्‍लासडोर डॉट कॉम, सैलरी डॉट कॉम, पेस्‍केल डॉट कॉम ऐसी ही कुछ वेबसाइट हैं.

2. तय करें एक और सैलरी लिमिट

इंटरव्‍यू में जाने से पहले ही सोच लें कि अगर आपके द्वारा डिमांड की गई सैलरी पर इंप्‍लॉयर राजी नहीं होता है तो फिर आप कितनी सैलरी पर राजी हो सकते हैं. आपके द्वारा मांगी गई सैलरी पर इंप्‍लॉयर झट मान जाए, ऐसा तो नहीं होगा. वह आपको अपनी तरफ से भी एक तय सैलरी ऑफर करेगा और चाहेगा कि आप उस पर मान जाएं. ऐसे में निगोशिएशन के वक्‍त आपको एक अन्‍य सैलरी लिमिट की भी जरूरत होगी, जिसके मिलने पर आप संतुष्‍ट रहें.

3. शुरुआत में ही न करें सैलरी डिस्‍कस

इंटरव्‍यू की शुरुआत में ही अगर सैलरी को लेकर सवाल-जवाब शुरू हो जाए तो इसे टालने की कोशिश करें. जब तक ठोस कन्‍फरमेशन न मिले तब तक खुद से सैलरी के टॉपिक को छेड़ने से बचें. अगर इससे पहले ही इंटरव्‍यूअर आपसे इस बारे में बात करे तो सीधे जवाब न देकर इंटरव्‍यूअर से पोजिशन और काम को लेकर ज्‍यादा जानकारी लेने की कोशिश करें. उदाहरण के तौर पर आप यह कह सकते हैं कि सैलरी पर डिस्‍कस करने से पहले मैं कंपनी में अपनी पोजिशन और जिम्‍मेदारियों के बारे में और ज्‍यादा जानना चाहता हूं. साथ ही ये भी जानना चाहूंगा कि आपकी मुझसे क्‍या उम्‍मीदें हैं.

 

4. तय करें क्या ज्‍यादा जरूरी- सैलरी या काम

इंटरव्‍यू में जाने से पहले अपने-आप से एक और सवाल करना जरूरी है, वह यह कि आपने जिस पोजिशन और कंपनी में अप्‍लाई किया है क्‍या उसके लिए आप कम सैलरी पर भी कमा कर सकते हैं. कई लोग काम को पैसों से ज्‍यादा तवज्‍जो देते हैं. साथ ही अक्‍सर ऐसा भी होता है कि हमें अपनी पसंद की कंपनी में या फिर पसंद का काम करने का मौका मिल रहा होता है. ऐसे में हम कम सैलरी पर भी राजी हो सकते हैं. या फिर काम ऐसा होता है कि हमें बहुत ज्‍यादा फ्रीडम और अन्‍य तरह की सुविधाएं मिल रही होती हैं, जो सैलरी से ज्‍यादा मायने रखती हैं। अगर ऐसा है तो खुद से ये सवाल जरूर करें.

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss