विज्ञापन
Home » Industry » Service SectorFour day working weeks and does not require a degree

करोड़ों में सैलरी देती है ये कंपनी, हफ्ते में करना होता है सिर्फ 4 दिन काम

यह कंपनी सालाना 95 हजार डॉलर (67 लाख 65 हजार रुपए) देने को भी तैयार है।

Four day working weeks and does not require a degree

आज के समय में नौकरी पाने के लिए हर तरफ मारा मारी हो रही है। बेहद कम सैलरी में भी लोग काम करने को तैयार है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी कंपनी के बारे में बता रहे हैं जहां केवल चार दिन काम करना पड़ता है। इसके साथ ही यह कंपनी सालाना 95 हजार डॉलर (67 लाख 65 हजार रुपए) देने को भी तैयार है।

नई दिल्ली। आज के समय में नौकरी पाने के लिए हर तरफ मारा मारी हो रही है। बेहद कम सैलरी में भी लोग काम करने को तैयार है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी कंपनी के बारे में बता रहे हैं जहां केवल चार दिन काम करना पड़ता है। इसके साथ ही यह कंपनी सालाना 95 हजार डॉलर (67 लाख 65 हजार रुपए) देने को भी तैयार है। इसके अलावा कंपनी को अगर काम अच्छा लगा तो सैलरी वदो लाख डॉलर (1.42 करोड़) रुपए तक हो सकती है। इसके बावजूद भी कंपनी को कोई अच्छा व्यक्ति नहीं मिल रहा है। इतनी आरामदायक नौकरी और पैसा होने के बावजूद कंपनी को लोग नहीं मिल रहे हैं।

यह भी पढ़ें: शुरू हो गई ग्रेटर नोएडा मेट्रो, सस्ते में कर पाएंगे सफर, जानिए कितना देना होगा किराया

 

इस कंपनी में डिग्री की कोई जरूरत नहीं

 

यह कंपनी बाकी कंपनियों की तरह नहीं है। इस कंपनी में नौकरी पाने के लिए कर्मचारियों को किसी तरह की डिग्री की जरूरत नहीं है लेकिन कर्मचारी की उम्र 20 साल से ज्यादा होनी चाहिए साथ ही कर्मचारी हाईस्कूल से पढ़ा हुआ होना चाहिए। हम बात कर रहे हैं  न्यूजीलैंड के एयर ट्रैफिक कंट्रोल की नौकरी की। यहां फ्लाइट्स के ट्रैफिक कंट्रोल का काम करने के लिए कंपनी को योग्य कर्मचारियों की जरूरत है।

 

यह भी पढ़ें: हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा के घर सहित 20 लोकेशंस पर CBI के छापे, लैंड स्कैम में नया केस दर्ज

 

100 में से करीब तीन लोग ही इसकी परीक्षा पास कर पाते हैं

 

न्यूजीलैंड एयरवेज के ट्रैफिक जनरल मैनेजर टिम बोयले ने बताया कि हमें इस काम को करने वाले लोगों की जरूरत है। हम ऐसे लोगों से बात करना पसंद करेंगे, जो सोचते हैं कि वे यह काम कर सकते हैं। कई लोगों में विभिन्न योग्यताएं हो सकती हैं, लेकिन हमें ऐसे कम ही लोग मिलते हैं। उन्होंने बताया कि 100 में से करीब तीन लोग ही इसकी परीक्षा पास कर पाते हैं। परीक्षा में कुछ लॉजिकल सीक्वेंस दिखाए जाते हैं। ये एक पहेली की तरह होते हैं, जिसमें पूछा जाता है कि किस सीक्वेंस से सीरीज पूरी होगी। इसी के आधार पर उम्मीदवार का चयन किया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन