Home » Industry » Retailhighest fraud at petrol pump in which states, how to check fraud on petrol pump

दिल्ली-महाराष्ट्र-UP में पेट्रोल पंपों पर सबसे ज्यादा चोरी, सरकारी रिपोर्ट में दूसरे राज्यों का भी खुलासा

पेट्रोलियम मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार सबसे ज्यादा मामले कम पेट्रोल देने के सामने आए हैं।

1 of

नई दिल्ली. हाल में महाराष्ट्र के ठाणे के पेट्रोल पंप पर पेट्रोल में पानी मिलाने का मामला सामने आया है। पेट्रोल पंप पर होने वाली मिलावट कोई आम बात नहीं है, जिसे हम सब जानते हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय की लेटेस्ट रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि सबसे ज्यादा  महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के लोगों को पेट्रोल पंप पर सबसे ज्यादा ठगी का सामना करना पड़ रहा है। इन राज्यों में न केवल पेट्रोल-डीजल में मिलावट की जा रही है, बल्कि कई पंप पर कम मात्रा में पेट्रोल और डीजल लोगों को दिए जा रहे हैं। यानी आपकी जेब से तो कंपनियां पूरा पैसा निकाल रही हैं लेकिन आपको उतनी मात्रा में पेट्रोल-डीजल नहीं मिल रहा है।

 

क्या कहती है रिपोर्ट

पेट्रोलियम मंत्रालय द्वारा लोकसभा को दी गई रिपोर्ट के अनुसार 2015-2017 के दौरान 10898 फ्रॉड के  मामले सामने आए हैं, जिसमें अकेले कम पेट्रोल-डीजल देने के 7848 मामले हैं। वहीं पेट्रोल-डीजल में मिलावट के 3050 मामले सामने आए हैं। यानी पूरी तरह से आपके साथ धोखाधड़ी की जा रही है।

 

 

राज्य कुल मिलावट मिलावट कम आपूर्ति
महाराष्ट्र 2026 466 1560
उत्तर प्रदेश 1281 368 913
कर्नाटक 1027 294 733
दिल्ली  946 161 785
गुजरात 621 177 444
हरियाणा 601 164 439
राजस्थान 597 136 461
तमिलनाडु 551 195 356
मध्य प्रदेश 538 138 400
तेलंगाना 432 105 327

 

आगे पढ़ेंं- चिप के जरिए कहां हो रही है सबसे ज्यादा चोरी

चिप के जरिए यूपी, गुजरात में सबसे ज्यादा धोखाधड़ी

 

पेट्रोलियम मंत्रालय की एक और रिपोर्ट के अनुसार साल 2016 और 2017 (जुलाई तक) के दौरान चिप के जरिए सबसे ज्यादा चोरी उत्तर प्रदेश में की गई है। यहां पर 51 मामले ऐसे सामने आए हैं। जबकि उसके बाद गुजरात में 17 और मध्य प्रदेश में 10 मामले सामने आए है। इन दो साल में देश भर में ऐसे कुल 101 मामले सामने आए हैं। राजस्थान में चिप के जरिए ठगी करने के 7 और पश्चिम बंगाल में 5 मामले सामने आए हैं।


सरकार के दावों के बावजूद  घट नहीं रहे है मामले

 

पिछले साल उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर पेट्रोल पंप पर गड़बड़ी के मामले सामने आए थे। जिसके बाद केंद्र सरकार का दावा था कि ऐसे पेट्रोल पंप डीलर्स के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा। हालांकि इन दावों के बावजूद धोखाधड़ी के मामले कम नहीं हुए है। जुलाई तक की रिपोर्ट देखी जाय तो 7792 मामले फ्रॉड के सामने आए थे। जबकि दिसंबर 2017 तक यह बढ़कर 10898 हो गए।

 

आगे पढ़े पेट्रोल पंप डीलर पर क्या होता है एक्शन...

तीन बार पकड़े जाने पर डीलरशिप लाइसेंस रद्द करने का है कानून

 

बढ़ते फ्रॉड के मामले को देखते हुए पेट्रोलियम कंपनियों ने अब पेनल्टी नियमों को भी सख्त कर दिया है। कंपनियों के मार्केटिंग डिसिप्लिन गाइडलाइन के अनुसार तीन बार किसी पंप के पकड़े जाने पर लाइसेंस कैसिंल किया जाएगा। जबकि पहली बार पर प्रति नॉजल 25000  और दूसरी  बार 50000 रुपए पेनल्टी का प्रावधान है। साथ ही 15 दिन सस्पेंशन का भी प्रावधान है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट