विज्ञापन
Home » Industry » RetailGood day for DLF, good sign for real estate sector struggling with recession

प्रियंका गांधी के पति राबर्ट से संबंध रखने वाली डीएलएफ की बिक्री दो गुना बढ़कर 2,400 करोड़ रुपए की संभावना

डीएलएफ के आए अच्छे दिन, मंदी से जूझ रहे रियल एस्टेट सेक्टर के लिए अच्छे संकेत

1 of

नई दिल्ली. रियल एस्टेट की प्रमुख कंपनी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति राबर्ट वाड्रा से व्यापारिक संबंध रखने वाली डीएलएफ की बिक्री इस वित्तीय वर्ष में दो गुना बढ़कर 2400 करोड़ रुपए होने का अनुमान है। यही नहीं,   बाजार पूंजीकरण के लिहाज से देश की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी डीएलएफ अगले 3-5 वर्षों में 12,500 करोड़ रुपये की हाउसिंग इन्वेंट्री को भी बेचने की उम्मीद कर रही है। कंपनी के सीईएफओ अशोक त्यागी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में बाजार के ट्रेंड के आधार पर यह बात कही है। कंपनी की इस ग्रोथ से माना जा रहा है कि मंदी से जूझ रहे रियल एस्टेट सेक्टर अब इससे उबर रहा है। यानी जल्द ही रियल एस्टेट सेक्टर में कीमतों में बढ़ोतरी का ट्रेंड आ सकता है। हालांकि सीए हरिगोपाल पाटीदार बताते हैं कि अभी यह कहना बहुत जल्दबाजी होगी। मोदी सरकार के हाल ही के कदमाें का असर कम से कम दो-तीन साल बाद दिखेगा। फिर भी यह अच्छा संकेत है।

 

नौ महीने में 1788 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी बेची 
त्यागी ने पीटीआई को बताया है कि कंपनी की तिमाही बिक्री की बुकिंग लगभग 600 करोड़ रुपये है। इसलिए कंपनी वित्तीय वर्ष के लिए  2,000-2,250 करोड़ रुपये से अधिक का अनुमान लगा रही है। त्यागी ने यह भी बताया है कि कंपनी ने 2018-19 की अप्रैल-दिसंबर अवधि के दौरान पहले ही 1,788 करोड़ रुपये की शुद्ध बिक्री हासिल की है और यह इस तिमाही में जारी रहने की उम्मीद है। गौरतलब है कि  2017-18 के दौरान केवल 1,000 करोड़ रुपये की बिक्री बुकिंग हासिल की थी। इसकी वजह, मई 2017 से लागू होने वाले नए रियल एस्टेट कानून रेरा के प्रावधानों का पालन न करने पर छह महीने के लिए बिक्री को निलंबित करना था।

मोदी की राहत पर कंपनी ने कहा- कोई फर्क नहीं पड़ेगा 
हाल ही में मोदी सरकार द्वारा की गई जीएसटी कटौती के प्रभाव के बारे में बात करते हुए डीएलएफ के सीएफओ ने कहा कि कंपनी ने आवास इकाइयों का निर्माण पहले ही पूरा कर दिया था। ऐसी प्रापर्टी पर पहले से ही जीएसटी में छूट है। इसलिए वर्तमान में दी गई राहत का उनकी कंपनी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। रियल एस्टेट सेक्टर पर बात करते हुए त्यागी ने कहा कि यदि कीमतें नहीं बढ़ाई गई है तो इनपुट टैक्स क्रेडिट की वापसी डेवलपर्स के मार्जिन को कम कर सकती है। उन्होंने सीमेंट पर जीएसटी की दर 28 फीसदी की आलोचना की है। 

यह है वाड्रा और डीएलएफ का कनेक्शन 
गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ जिस जमीन खरीद मामले में एफआईआर दर्ज की गई है उसमें डीएलएफ भी शामिल है। रॉबर्ट वाड्रा  पर आरोप है कि सारे नियम ताक पर रखकर हरियाणा में उन्हें करोड़ों का फायदा पहुंचाया गया। एफआईआर में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और डीएलएफ गुरुग्राम व स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी का भी नाम है। सितंबर में एफआईआर गुरुग्राम के खेड़की दौला पुलिस स्टेशन में दर्ज हुई है। वाड्रा के स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड पर गुरुग्राम के सेक्टर 83 में 3.5 एकड़ जमीन ओंकरेश्वर प्रॉपर्टीज से वर्ष 2008 में 7.50 करोड़ रुपए में खरीदने का आरोप है। जिस वक्त जमीन खरीदी गई उस वक्त  हुड्डा राज्य के मुख्यमंत्री थे और उनके पास आवास एवं शहरी नियोजन विभाग भी था। एफआईआर में कहा गया कि स्काईलाइट ने बाद में हुड्डा के प्रभाव से कॉलोनी के विकास के लिए लाइसेंस प्राप्त कर इस जमीन को डीएलएफ को 58 करोड़ रुपए में बेचा। इसमें नियमों को उल्लंघन कर  गुरुग्राम के वजीराबाद में डीएलएफ को 350 एकड़ जमीन बेचने का भी आरोप है, जिससे इस रियल एस्टेट कंपनी को 5000 करोड़ रुपए का लाभ पहुंचा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन