विज्ञापन
Home » Industry » RetailDelhi high court allows income tax department for special audit of Patanjali Ayurveda

बाबा रामदेव को कोर्ट का बड़ा झटका, अब पतंजलि की इनकम की होगी जांच

दिल्ली हाईकोर्ट ने पतंजलि को सहयोग करने के निर्देश दिए

1 of

नई दिल्ली।  दिल्ली हाईकोर्ट के बाबा रामदेव को बड़ा झटका दिया है। हाईकोर्ट ने इनकम टैक्स विभाग को पतंजलि आयुर्वेद की आय की जांच करने की इजाजत दे दी है। साथ ही कोर्ट ने पतंजलि को इनकम टैक्स विभाग की जांच में सहयोग करने को कहा है। एक लीगल वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली हाईकोर्ट ने 2010 के मामले की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया है। जानकारी के अनुसार, वित्त वर्ष 2010-2011 में इनकम टैक्स विभाग ने पतंजलि आयुर्वेद का विशेष ऑडिट करने के निर्देश दिए थे। इसके खिलाफ पतंजलि कोर्ट चली गई थी। अब इस मामले में हाईकोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद को  इनकम टैक्स विभाग का सहयोग करने के निर्देश दिए हैं। बिक्री में कमी के बीच आय की जांच के इन आदेशों को बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। 

 

पतंजलि ने किया था विरोध

पतंजलि आयुर्वेद ने इनकम टैक्स विभाग के विशेष ऑडिट के आदेश का विरोध किया था। पतंजलि ने कर निर्धारण अधिकारी की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा था कि अधिकारी अपनी जिम्मेदारियों से बचने के लिए स्पेशल ऑडिट का सहारा ले रहा है। कोर्ट ने पतंजलि के इस तर्क को खारिज कर दिया। कर निर्धारण अधिकारी के फैसले पर सहमति जताते हुए कोर्ट ने कहा कि उसके ऐसा करने का अधिकार प्राप्त है, लेकिन सभी सामान्य मामलों में स्पेशल ऑडिट के प्रावधानों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

 

आगे पढ़ें--हाईकोर्ट ने क्यों खारिज की पतंजलि की याचिका

कर निर्धारण अधिकारी के फैसले को सही ठहराया


हाईकोर्ट ने कहा कि कर निर्धारण अधिकारी जब यह महसूस करता है कि इसे दी गई सूचना पूर्ण नहीं है तो स्पेशल ऑडिट का सहारा ले सकता है। इस मामले में भी अधिकारी ने इसी अधिकार का सहारा लेते हुए स्पेशल ऑडिट के निर्देश दिए हैं, जो सही हैं। इसके साथ ही कोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद की पांच साल पुरानी याचिका को खारिज करते हुए उसे इनकम टैक्स विभाग का सहयोग करने के निर्देश दिए। 

 

आगे पढ़ें--- क्यों परेशान हैं बाबा रामदेव

पांच साल में पहली बार गिरी है पतंजलि की बिक्री


बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद की बिक्री में पांच साल में पहली बार गिरावट आई है। इसके लिए पतंजलि ने जीएसटी और वितरण नेटवर्क में कमी को जिम्मेदार ठहराया है। वित्त वर्ष 2017-18 में 

कंपनी की बिक्री 10 फीसदी गिरकर 8,148 करोड़ रुपए हुई थी। बिक्री में गिरावट 2013 के बाद पहली बार दर्ज की गई थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन