विज्ञापन
Home » Industry » RetailBaba Ramdev patanjali sales growth down in fiscal year 2017-18

बाबा रामदेव को झटका, 5 साल में पहली बार पतंजलि की कमाई घटी

जीएसटी के अनुरूप नहीं ढलने से भी हुआ नुकसान

Baba Ramdev patanjali sales growth down in fiscal year 2017-18
Baba Ramdev patanjali sales growth down in fiscal year 2017-18 : वित्त वर्ष 2017-18 में पतंजलि आयुर्वेद की कमाई में 10 फीसदी की गिरावट हुई है और यह गिरकर 8135 करोड़ रुपए रह गई है। जबकि पिछले वित्त वर्ष में यह 9030 करोड़ रुपए थी।

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट की ओर से पतंजलि के टैक्स का ऑडिट करने के आदेश के बाद योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद को एक और झटका लगा है। मार्च 2018 में खत्म हुए वित्त वर्ष में पतंजलि की बिक्री और उसकी कमाई में अच्छी खासी कमी आई है। 2013 के बाद बीते पांच साल में पतंजलि की कमाई बिक्री और कमाई में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है। रिसर्च प्लेटफॉर्म टॉफलर के फाइनेंशियल डाटा के अनुसार, वित्त वर्ष 2017-18 में पतंजलि आयुर्वेद की कमाई में 10 फीसदी की गिरावट हुई है और यह गिरकर 8135 करोड़ रुपए रह गई है। जबकि पिछले वित्त वर्ष में यह 9030 करोड़ रुपए थी। केयर रेटिंग्स के प्रोविजनल डाटा के अनुसार, वित्त वर्ष 2017-18 में पतंजलि का नेट प्रॉफिट भी 50 फीसदी की गिरावट के साथ 529 करोड़ रुपए रह गया है।

 

इसलिए आई गिरावट
केयर रेटिंग्स की रिपोर्ट के अनुसार, पतंजलि के टर्नओवर में गिरावट का सबसे बड़ा कारण जीएसटी रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी जीएसटी सिस्टम के हिसाब से खुद को ढाल नहीं पाई। इसके अलावा कंपनी मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर और सप्लाई चेन बनाने में भी विफर रही। प्रॉफिट बिफोर इंट्रेस्ट, लीज, डेप्रिसिएशन ऐंड टैक्स (PBILDT) मार्जिन में कमी की वजह से कंपनी की प्रॉफिटेबिलिटी में कमी आई है। विस्तार के कारण बढ़े खर्च से कंपनी का PBILDT मार्जिन वित्त वर्ष 2017-18 के 18.73 फीसदी के मुकाबले घटकर 11.98 फीसदी रहा गया है। 

 

प्रतिद्वंदी कंपनियों ने भी पहुंचाया नुकसान
विशेषज्ञों का कहना है कि बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद को प्रतिद्वंदी कंपनियों ने भी नुकसान पहुंचाया है। जेफरीज के विशेषज्ञ वरुण लोचब और तन्मय शर्मा का कहना है कि बाजार में पतंजलि का प्रभाव घटा है। डाबर ने पतंजलि के हाथों खोया अपना मार्केट शेयर वापस पा लिया है। इसके अलावा अब हर्बल, आयुर्वेदिक और नैचुरल प्रोडक्टस के सेक्टर में कई मल्टीनेशनल कंपनियों ने भी अपने उत्पाद लॉन्च कर दिए हैं। हिन्दुस्तान यूनिलिवर ने अपने आयुर्वेदिक पर्सन केयर प्रोडक्ट्स वाले लीवर आयुष ब्रांड को रीलॉन्च किया है। इसके अलावा इंदुलेखा ने हेयरकेयर ब्रांड को खरीदा है और सिट्रा स्किनकेयर ब्रांड लॉन्च किया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन