विज्ञापन
Home » Industry » ManufacturingDue to Chinese mobile companies, four Indian companies closed

ड्रैगन का वार / चीनी मोबाइल कंपनियों की वजह से भारत की चार कंपनियां बंद होने की कगार पर

माइक्रोमैक्स, इंटेक्स, लावा और कार्बन का मार्केट शेयर 3 फीसदी पर सिमटा

Due to Chinese mobile companies, four Indian companies closed
  • इंटेक्स कंपनी ने कासना में मौजूद 20 एकड़ के प्लांट को किया बंद
  • देश में चीनी मोबाइल कंपनियों का मार्केट शेयर 65 फीसदी पहुंचा

नई दिल्ली. चीन की मोबाइल कंपनियों ने भारतीय कंपनियों को तबाह कर दिया है।  माइक्रोमैक्स , इंटेक्स , लावा  और  कार्बन  कंपनियों का बिजनेस महज तीन फीसदी पर सिमट गया है।  इन चार कंपनियों में से दो ने लावा और इंटेक्स मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस से अपने हाथ खींच लिए हैं। इंटेक्स ने अपने  मैन्युफैक्चरिंग प्लांट  पर ताला लगा दिया है। जिसके जल्द बंद होने की बात सामने आ रही है। 
 

इंटेक्स बेच रही है ग्रेटर नोएडा का प्लांट

 

सूत्र बताते हैं कि देसी मोबाइल कंपनी इंटेक्स कासना (ग्रेटर नोएडा) प्लांट को भी बेच रही है। ताज्जुब की बात तो ये है कि 20 एकड़ के इस प्लांट को बनाने के लिए 500 करोड़ रुपए कुछ महीने पहले ही खर्च किए थे। इस प्लांट में मोबाइल फोन, होम अप्लायंसेज और कस्टमर ड्यूरेबल्स बनाए जाने थे। जिसके लिए 1,500 करोड़ रुपए का निवेश किया जाना था। इंटेक्स के डायरेक्टर केशव बंसल ने प्लांट बेचने की तो पुष्टि कर दी पर बिजनेस बंद करने की बात से इनकार कर दिया। उनका कहना है कि इंटेक्स अभी भी हैंडसेट निर्माण करने के बिजनेस में मौजूद है। यह बात सही है कि पहले जितना काम हो रहा था उतना अब नहीं हो रहा है।

यह भी पढ़ें : कार के बाद अब ड्राइवर लैस ट्रक, स्वीडन में टेस्टिंग शुरू
 

लावा और माइक्रोमैक्स का फोकस कहीं दूसरी ओर 

 

वहीं दूसरी ओर लावा और माइक्रोमैक्स की बात करें तो उन्होंने भी फोन के अलावा दूसरे क्षेत्रों की ओर फोकस करना शुरू कर दिया है। लावा अब फीचर फोन के निर्माण के साथ डिस्ट्रीब्यूशन पर भी ध्यान दे रही है। जिसके लिए कंपनी ने चीन की मोबाइल कंपनी ऑनर से बात की है। वहीं दूसरी ओर माइक्रोमैक्स कंज्यूमर ड्यूरेबल्स के क्षेत्र की ओर फोकस कर रहा है। कंपनी इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर अपना ध्यान दे रही है।

यह भी पढ़ें : नई सरकार जून में जारी करेगी 5G के लाइसेंस, अगले साल से लोगों को मिलेगी सुविधा
 

 

इस वजह से बने ऐसे हालात 

 

चीनी मोबाइल कंपनियों के मार्केट बढ़ने से इन चारों देसी कंपनियों को काफी बड़ा झटका लगा है। आंकड़ों पर बात करें तो इन चारों का भारत में मार्केट मार्च के अंत में 3 फीसदी रह गया। जबकि चीनी कंपनियों का मार्केट शेयर 65 फीसदी तक पहुंच गया।

यह भी पढ़ें : 31 मई तक दो सरकारी बीमा पॉलिसी के लिए बैंक में 342 का बैलेंस जरूर रखें, 4 लाख रुपए तक का रिस्क कवर मिलेगा

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन